इन 5 दिग्गज खिलाड़ियों को अपना क्रिकेट करियर बचाने के लिए किसी एक फॉर्मेट से करना चाहिए संन्यास का ऐलान
इन 5 दिग्गज खिलाड़ियों को अपना क्रिकेट करियर बचाने के लिए किसी एक फॉर्मेट से करना चाहिए संन्यास का ऐलान

एक क्रिकेटर बनने के लिए आपको खून पसीना एक करना पड़ता है. किसी भी क्रिकेटर के लिए तीनों फॉर्मेट में खेलना काफी मुश्किल भरा होता है. एक के बाद एक मैच, एक के बाद एक सीरीज़ ऐसे में अपने आपको खेल के लिए तैयार रखना आसान नहीं होता है. इंटरनेशनल क्रिकेट के अलावा खिलाड़ी आईपीएल जैसी दुनिया भर में होने वाली तमाम लीगों का हिस्सा भी बनते हैं.

हालही में इंग्लैंड के स्टार ऑलराउंडर बने स्टोक्स ने ये कहते हुए वनडे क्रिकेट को अलविदा कहे दिया कि अब तीनो फॉर्मेट खेलने के लिए उनकी बॉडी उन्हें अनुमति नहीं दे रही है. हम आपको ऐसे ही पांच खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहें हैं, जिन्हें किसी एक फॉर्मेट को अलविदा कहे देना चाहिए.

1. शाकिब अल हसन

SHAKIB AL HASAN बंगलादेश

बांग्लादेश ही नहीं बल्कि दुनिया के टॉप ऑलराउंडर्स में से एक शाकिब अल हसन(SHAKIB AL HASAN) बांग्लादेश को लिए तीनो फॉर्मेट में क्रिकेट खेलते हैं. इंटरनेशनल क्रिकेट के अलावा शाकिब दुनिया भर में होने वाली तमाम फ्रेंचाइज़ी क्रिकेट का भी हिस्सा बनते हैं.

शाकिब अल हसन ने न्यूज़ीलैंड के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज़ से खुद को कुछ निजि कारण बताते हुए दूर रखा था और उन्हें अफ्रीका दौरा भी बीच में यह कहे कर छोड़ दिया था कि उनके कोई रिशतेदार हॉस्पिटल में भर्ती हैं. अब वक़्त आ गया है कि शाकिब को टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहे देना चाहिए. शाकिब अब तक 63 टेस्ट मैचों में 4251 रन बना चुके हैं और 225 विकेट अपनी झोली में गिरा चुके हैं.

2. ट्रेंट बोल्ट

Trent Boult

न्यूज़ीलैंड के तेज़ गेंदबाज़ ट्रेंट बोल्ट(TRENT BOULT) अपनी टीम के लिए सभी फॉर्मेट में खेलते हुए दिखाई देते हैं. इंटरनेशनल क्रिकेट के अलावा ट्रेंट बोल्ट होने वाली तमाम लीगों में भी हिस्सा लेते हैं. इतना क्रिकेट खेलने के बाद भी बोल्ट की गेंदबाज़ी में वही धार दिखाई देती है. अब वक़्त आ गया है कि उन्हें टेस्ट क्रिकेट को अलविदा बोल देना चाहिए. बोल्ट अब तक 78 टेस्ट मैचों में 317 विकेट अपने नाम कर चुके हैं.

3. केन विलियमसन

Kane Williamson

न्यूज़ीलैंड के दिग्गज बल्लेबाज़ केन विलियमसन(KANE WILLIAMSON) टीम के लिए सभी प्रारूपों के लिए उपलब्ध होते हैं. उन्होंने टीम के लिए बहुत योगदान दिए हैं. विलियमसन ने कप्तानी करते हुए टीम को साल 2019 के वर्ल्ड कप फाइनल और साल 2021 के टी20 वर्ल्ड के फाइनल में पहुंचाया. इतना ही नहीं अपनी कप्तानी में उन्होंने साल 2021 में खेली गई वर्ल्ड टेस्ट चैंपियंशिप को जिताया.

विलियमसन की इंजरी अब उन्हें क्रिकेट के सभी फॉर्मेट खेलने की इजाज़ात नहीं देती हैं. ऐसे में उन्हें टी20 वर्ल्ड 2022 के बाद टी20 क्रिकेट को अलविदा कहे देना चाहिए. उन्होंने अब तक टी20 के 74 मैचों में 32.59 की औसत से 2021 रन बनाए हैं.

ALSO READ:इस खिलाड़ी को बना दिया कप्तान तो दुनिया पर राज करेगा भारतीय क्रिकेट, खुद भारतीय दिग्गज ने कर दी मांग

4. स्टीव स्मिथ

Steve Smith

साल 2010 में बतौर लेग स्पिनर अपने करियर की शुरुआत करने वाले स्टीव स्मिथ(STEVE SMITH) ऑस्ट्रेलिया के अभिन्न अंग बन चुके हैं. उन्होंने टीम के लिए तीनो फॉर्मेट में कई योगदान दिए हैं. टेस्ट क्रिकेट में स्मिथ का कोई मुकाबला नहीं है. वहीं एकदिवसिए प्रारूप में भी वो टीम के लिए काफी शानदार कर रहे हैं. ऐसे में उनका टी20 क्रिकेट खेलना थोड़ा मुश्किल होता है. अब उन्हें टी20 क्रिकेट को अलविदा कहे देना चाहिए. अब उन्होंने 57 टी20 मैचों में 26.51 की औसत से 928 रन बनाए हैं.

ALSO READ:ICC WTC Championship के फाइनल में भिड़ सकते हैं भारत-पाकिस्तान, इस समीकरण से पहुंच सकते है दोनों टीमें, समझें

5. विराट कोहली

Virat Kohli

बीते दिनों से अपनी खराब फॉर्म से जूझ रहे विराट कोहली(VIRAT KOHLI0) इंडिया के लिए तीनों प्ररूपों में दिखाई देते हैं. हर एक फॉर्मेट में विराट कोहली के नाम कई रिकॉर्ड हैं. कुछ सालों में विराट कोहली के खेल में काफी बदलाव देखा गया है. वो टेस्ट और टी20 रैंकिग में टॉप से बाहर हो चुके हैं. ऐसे में उन्हें खुद को बरकरार और तरो-ताज़ा रखने के लिए टी20 का साथ छोड़ देना चाहिए. विराट ने अब तक 99 टी20 मैचों में 50.1 की शानदार औसत के साथ 3380 रन बनाए हैं.

ALSO READ:IND vs ENG: ‘काश! वो कैच पकड़ लेते तो आज सीरीज हमारे नाम होती’ टी20 के बाद वनडे सीरीज गंवाने के बाद टूट गए जॉस बटलर