युवराज सिंह

इंडियन क्रिकेट टीम ( Indian Cricket Team) में जब भी ऑलराउंडर का जिक्र किया जाता है, युवराज सिंह का नाम जरूर लिया जाता है। लेकिन ऐसा भी माना जाता है कि युवराज सिंह का हुनर जितना था उन्हें मुकाम उतना नहीं मिला। खुद युवराज सिंह का ऐसा मानना है कि भारतीय टीम में खिलाड़ियों को उनके संघर्ष के दिनों में कप्तान और कोच का उतना साथ नहीं मिलता है।

अपनी 2014 की टी20 विश्व कप की पारी के बारे में बात करते हुए युवराज सिंह की पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के प्रति खींचतान एक बार फिर समाने आई है। दोनों खिलाड़ियों को तत्कालीन टीम के काफी करीबी दोस्त कहा जाता था। लेकिन वक्त के साथ अब कई मौकों पर युवराज सिंह और उनके पिता युवी के करियर के अंतिम दौर में माही के सपोर्ट की धज्जियां उड़ाते नजर आते है।

2014 में टीम का माहौल बदला हुआ था

भारतीय टीम के पूर्व सफल ऑलराउंडर खिलाड़ियों में से एक युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने हाल ही में अपने करियर को लेकर कई अनसुनी बाते एक बातचीत के दौरान साझा की है। इसी बातचीत में 2014 के विश्व कप ओर टीम के बारे में जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 2014 के बाद टीम इंडिया के माहौल में बदलाव हुआ। इसके अलावा साथ ही 2014 के टी20 विश्व कप में अपनी पारी के बारे में बात करते हुए कहा कि

“उस दौरान उनमे आत्मविश्वास बहुत कम था। ये मेरे लिए ऐसा दौर था, जब मुझे टीम से कभी भी बाहर किया जा सकता था। ये कोई बहाना नहीं है लेकिन उस समय मुझे टीम में किसी का सपोर्ट नहीं मिल रहा था। कोच के तौर पर डंकन फ्लेचर के साथ काम कर रहे थे। उस समय टीम पूरी तरह से बदल गई थी। अगर फाइनल मैच में मैं अपनी पारी की बात करू तो मैं बॉल को हिट नहीं कर पा रहा था। मैंने ऑफ स्पिनर पर भी हिट करने की पूरी कोशिश की लेकिन वो भी नहीं हो पाया तो मैंने आउट होने की भी कोशिश की। लेकिन मुझसे उस समय वो भी नहीं हो पाया। इसके बाद लोगों ने कहा कि मेरा खेल का करियर अब खत्म हो गया है। जिसके बाद मुझे भी ऐसा ही प्रतीत होने लगा था। लेकिन ये जिंदगी है। आप जहां कभी जीत जाते हो, तो कभी हार जाते हो”।

ALSO READ:IPL 2022 RR vs KKR : ‘मैं तो सुबह ही अपने हाथ पर लिख कर उतरा था 50 नॉटआउट, रिंकू सिंह ने अपने पारी का खोला राज

धोनी को मिला कोहली और शास्त्री का सपोर्ट

महेंद्र सिंह धोनी

युवराज सिंह ने आगे बातचीत करते हुए कहा कि ऐसा हर किसी को नहीं मिलता। लेकिन महेंद्र सिंह धोनी को उनके करियर के संघर्ष के दिनों में विराट कोहली और रवि शास्त्री का पूरा सपोर्ट मिला था। तब ही वो 2019 विश्व कप खेल पाए। तब कप्तान और कोच का सपोर्ट आपको मिलता है तो चीजे आपके लिए आसान हो जाती है।

भारतीय टीम के कितने खिलाड़ी है जिन्हे सपोर्ट नहीं मिला। हरभजन सिंह, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और वीवीएस लक्ष्मण जैसे कई महान खिलाड़ी है जिन्हे सपोर्ट नहीं मिला।

ALSO READ:IPL 2022 में चमके ये 3 युवा खिलाड़ी जल्द खेलते नजर आएंगे अपनी नेशनल टीम के लिए, तीसरा नंबर वाला है डिविलियर्स का विकल्प