रोहित शर्मा की जगह इन 3 खिलाड़ियों में बना देना चाहिए कप्तान

इंडियन क्रिकेट(INDIAN CRIKET TEAM) टीम में खिलाड़ि यों का आना जाना तो लगा ही रहता है. कभी कोई खिलाड़ी टीम में अंदर होता है तो कभी कोई खिलाड़ी टीम से बाहर हो जाता है. खिलाड़ियों की परफॉर्मेंस(PERFORMANCE) के आधार पर उन्हें टीम में जगह दी जाती है. एक खिलाड़ी को टेस्ट टीम (TEST TEAM) पर अलग किए जाने पर उसकी आँखों में दर्द भरे आंसू आ गए और उसने कहा कि लोगों को मेरी ईमानदारी पर शक था.

टीम से बाहर होने पर खिलाड़ी ने दिया बड़ा बयान

WRIDDHIMAN SAHA

भारतीय विकेट कीपर(WICKET KEEPER) और बल्लेबाज़ रिद्धिमन साहा(WRIDDHIMAN SAHA) को इंडियन टेस्ट टीम से बाहर कर दिया गया है. टीम से बाहर होने के बाद से साहा ने कई बड़ी-बड़ी बातें बोल दी हैं. साह ने साल 2007 में बंगाल(BENGAL) के लिए फर्स्ट क्लास(FIRST CLASS ) में डेब्यू(DEBUT) किया था. करीब 15 सालों तक बंगाल के लिए खेलने वाले रिद्धिमान साहा ने बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन(BENGAL CRICKET ASSOCIATION) से अपना रिशता खत्म कर लिया है. इस मौके पर साहा ने कहा इतने सालों बंगाल के लिए खेला फिर भी लोगों ने मेरी ईमानदारी पर सवाल खड़े किए, जो वाकई निराश करने वालें हैं.

ALSO READ:IPL 2023 में अनसोल्ड रहेंगे ये 5 दिग्गज विदेशी खिलाड़ी! लिस्ट में टी20 वर्ल्ड कप जीतने वाला कप्तान भी

लोगों ने मुझ पर खड़े किए सवाल- साहा

WRIDDHIMAN SAHA

भारत के लिए कई टेस्ट मैचों में अपना योगदान दे चुके रिद्धिमान साहा ने कहा, “यह बहुत दुखद एहसास है कि बंगाल के लिए इतने लंबे समय तक खेलने के बाद मुझे इस तरह के हालात से गुजरना पड़ा. यह निराशाजनक है कि लोग इस तरह की टिप्पणियां करते हैं और आपकी ईमानदारी पर सवाल उठाते हैं.”

साहा ने आगे कहा, “एक खिलाड़ी के रूप में मैंने पहले कभी ऐसी परिस्थिति का सामना नहीं किया था, लेकिन अब ऐसा हो गया है, तो मुझे भी आगे बढ़ने की ज़रूरत है.” 

पत्रकार के साथ साहा का हुआ था विवाद

इसी साल रिद्धिमन साहा का एक पत्रकार के साथ झगड़ा हो गया था. इस विवाद के बाद बीसीसीआई ने उस पत्रकार को दो सालों के लिए बैन कर दिया था. साहा ने पत्रकार पर धमकी देने का आरोप लगाया था. हालांकि, इसके बाद साहा को भी टीम से ड्रॉप कर दिया गया था.

ALSO READ:IPL 2022 में मुंबई इंडियंस की दुर्गति के लिए जिम्मेदार इन 5 खिलाड़ियों पर गिरेगा गाज, अब नीता अंबानी करेंगी हिसाब, कटेगा पत्ता