भारत को वर्ल्डकप दिला चुका यह कप्तान अमेरिका में बल्ले से मचाया है तबाही, लगातार आतिशी पारी खेल दिलाया जीत
भारत को वर्ल्डकप दिला चुका यह कप्तान अमेरिका में बल्ले से मचाया है तबाही, लगातार आतिशी पारी खेल दिलाया जीत

इंडियन अंडर19 के कप्तान रहे चुके उंनमुक्त चंद(UNMUKT CHAND) इन दिनों अमेरिका में अपने जलवे विखेर रहे हैं. उनमुक्त चंद(UNMUKT CHAND) ने ना सिर्फ इंडिया को लिए अंडर19 में कप्तानी की बल्कि इंडिया को वर्ल्ड चैंपियन भी बनवाया था. इसके बाद उंमुक्त चंद अमेरिका चले गए थे और वहां की नेशनल टीम से खेलने लगे थे. इन दिनों उंमुक्त चंद न्यूयॉर्क में माइनर टी20 लीग खेल रहे हैं. इस लीग के एक मैच में उंमुक्त चंद ने कमाल ही कर दिया.

उंमुक्त चंद ने खेली एक आक्रमक पारी

उनमुक्त चंद
उनमुक्त चंद

माइनर टी20 लीग खेलते हुए उंमुक्त चंद(UMNUKT CHAND) ने सिलिकॉन वैली की तरफ से खेलते हुए ताबड़तोड़ पारी खेली. सिलिकॉन वैली ने पहले टॉस जीतकर बल्लेबाज़ी करने का फैसला किया. सिलिकॉन की तरफ से उंमुक्त चंद(UMNUKT CHAND) ओपनिंग पर आए. उंमुक्त ने ओपिनंग पर आते हुए शेहान जयसूर्या के साथ पारी को संभालते हुए 72 रनों की साझेदारी की और अपना अर्धशतक पूरा किया.

ALSO READ:T20 World Cup 2022 से पहले भारतीय टीम को लगा झटका, विराट कोहली होंगे बाहर, वजह आई सामने!

64 गेंदों में मचाया कहर

unmukt chand

पहले बल्लेबाज़ी करते हुए सिलिकॉन वैली ने 20 ओवरों में 180 रन बोर्ड पर लगा दिए. सिलिकॉन के इन रनों में सबसे बड़ा हाथ उंमुक्त चंद(UMNUKT CHAND) का रहा, उन्होंने ओपनिंग से बल्लेबाज़ी करते हे 64 गेंदों में 95 रनों की एक नाबाद पारी खेली. उनकी इस पारी में 2 छक्के और 7 चौके शामिल रहे.

रनों का पीछा करने उतरी हॉलीवुड मास्टर बलास्टर 20 ओवरों में 117/9 रनों का ही स्कोर बना सकी और सिलिकॉन वैली ने इस मैच को 67 रनों से अपने नाम कर लिया. सिलिकॉन की तरफ से गेंदबाज़ी करते हुए सौरभ ने कमाल ही कर दिया, उन्होंने 4 ओवरों में सिर्फ 17 देकर 5 विकेट अपने नाम किए.

वहीं, हॉलीवुड मास्टर बलास्टर की तरफ से बल्लेबाज़ी करते हुए निसर्ग पटेल ने 24 और कौड़ी चेटी ने 20 रनों की पारी खेली. इसके कोई बल्लेबाज़ टीम के लिए अच्छी बल्लेबाज़ी नहीं कर पाया, जिसके चलते टीम को हार का सामना करना पड़ा.

ALSO READ:India Team: इंग्लैंड सीरीज के साथ ही खत्म हुआ इन 3 भारतीय खिलाड़ियों का करियर, अब संन्यास ही बचा है आखिरी रास्ता