SHUBMAN GILL AND YUVRAJ SINGH

भारत आज इंटरनेशनल लेवल पर इतना सफल इसलिए हुआ है, क्योंकि टीम के पूर्व खिलाड़ियों का दिल आज भी भारतीय टीम के लिए धड़कता है. शुभमन गिल ने जिस प्रकार से इंटरनेशनल लेवल पर कम समय में इतना बड़ा मुकाम बनाया है, उसमें पूर्व दिग्गज आलराउंडर युवराज सिंह का बहुत बड़ा हाथ है.

दरअसल कोविड-19 के दौरान युवराज सिंह ने शुभमन गिल, अभिषेक शर्मा, प्रभसिमरन सिंह और अनमोलप्रीत सिंह को ट्रेन किया. इस ट्रेनिंग का रिज़ल्ट आज दिख भी रहा है.

शुभमन गिल के सफलता में युवराज सिंह का बड़ा हाथ: अभिषेक शर्मा

अभिषेक शर्मा ने ‘पीटीआई-भाषा’ से बातचीत में कहा,

‘शुभमन उससे पहले ही भारत के लिए खेल चुके थे, लेकिन जैसा कि आप लोग कहते हैं, उन्होंने उस समय सभी प्रारूपों में अपनी जगह पक्की नहीं की थी. शुभमन को उस कैंप के बाद काफी सफलता मिली. शुभमन को ही नहीं , मुझे भी इसका काफी फायदा हुआ. घरेलू क्रिकेट और आईपीएल में मेरा प्रदर्शन काफी अच्छा हुआ.’

वह कैंप जीवन बदलने वाला था~ प्रभसिमरन

पंजाब किंग्स के सलामी बल्लेबाज प्रभसिमरन सिंह ने कहा कि,

‘सिर्फ मेरे लिए ही नहीं, बल्कि हम सभी के लिए वह जीवन बदलने वाला पल था. उस समय कोविड-19 अपने चरम पर था. यह एक बंद दरवाजे वाला कैंप जैसा था. युवराज सिंह ने एक गुरु और बड़े भाई के रूप में हम सभी की मदद की. पिछले दो-तीन वर्षों में, युवी पाजी ने हमें कुछ चीजें सिखाई हैं. जब आपको उनके जैसे खिलाड़ी का सानिध्य मिलता है तो इससे मैदान के अंदर और बाहर बहुत फर्क पड़ता है. वह ऐसे व्यक्ति हैं जो आपको शीर्ष स्तर के खेल की बारीकियां सिखाते हैं.’

अपने पिता की तरह सख्त नही हैं युवराज सिंह

अभिषेक शर्मा ने कहा,

‘शाम को, हम सब उनके कमरे में बैठते थे. वहां एक होम थिएटर है, जहां हम अपने-अपने वीडियो देखते थे, खेल का विश्लेषण करते थे और चर्चा करते थे. अभिषेक से जब पूछा गया कि क्या युवराज अपने पिता योगराज सिंह की तरह सख्त है तो उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि वह दोनों का मिश्रण था. अगर ट्रेनिंग सेशन सही नहीं हुआ तो वह गुस्सा हो जाते थे और आपको डांटते थे. लेकिन योग सर जैसे सख्त व्यक्ति की देखरेख में क्रिकेट सीखने के बाद वह संतुलन को समझते हैं. अगर उनको लगता था कि कुछ ज्यादा हो गया तो वह मना भी लेते थे.’

ALSO READ: हो गया कन्फर्म! न साउथ अफ्रीका न ऑस्ट्रेलिया इस खतरनाक टीम से होगा भारतीय टीम का सेमीफाइनल मुकाबला