Rishabh Pant
महेंद्र सिंह धोनी नहीं इस दिग्गज से प्रेरणा लेकर ऋषभ पंत बने विकेटकीपर, कहा- बचपन में जब देखा तभी से शुरू कर दिया

भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी ऋषभ पंत मात्र 24 साल की उम्र में क्रिकेट में काफी बड़ा और ऊंचा रिकॉर्ड हासिल कर चुके हैं। ऋषभ पंत को भारतीय क्रिकेट टीम का एक स्थाई और महत्वपूर्ण खिलाड़ी कहा जा सकता हैं, साथ ये विकेटकीपर खिलाड़ी अब भारतीय क्रिकेट टीम के भविष्य के कप्तान बनने की रेस में भी है। ऋषभ पंत को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आगामी सीरीज में केएल राहुल की कप्तानी के साथ उपकप्तान बनाया गया है।

ऋषभ पंत एक विस्फोटक बल्लेबाज हैं और तीनों फॉर्मेट में भारतीय टीम के नियमित विकेटकीपर खिलाड़ी भी है। विकेटकीपर के तौर पर उनकी तुलना विश्व के बेहतरीन विकेटकीपर माने जाने वाले महेंद्र सिंह धोनी के साथ की जाती है। साथी भारत में वर्तमान मौजूद सभी विकेटकीपर में उन्हें ही ज्यादा मौके भी मिले हैं। ऐसा कहा जा सकता है कि ऋषभ को भारतीय टीम में स्थाई जगह विकेटकीपिंग के कारण मिली है। इस विषय में बात करते हुए ऋषभ पंत ने एक नई बात बताई है।

मेरे पापा विकेटकीपर थे इसलिए मैंने विकेटकीपिंग चुनी : ऋषभ पंत

भारतीय क्रिकेट टीम में नियमित विकेटकीपर बने हुए 25 साल के युवा विस्फोटक खिलाड़ी ऋषभ पंत ने एक पॉडकास्ट के दौरान बताया है कि उनके पिता एक विकेटकीपर खिलाड़ी थे। इसलिए उन्होंने वेकेटकीपिंग चुनी है। ऋषभ पंत ने बताया,

“मुझे नहीं पता कि मेरी विकेटकीपिंग स्किल बेहतर हुई है या नहीं, लेकिन मैं हर दिन अपना 100 प्रतिशत देने की कोशिश कर रहा हूं। मैं हमेशा से ही एक विकेटकीपर बल्लेबाज था। एक बचपन से विकेटकीपिंग करना इसलिए शुरू किया था क्योंकि मेरे पिता ( राजेंद्र पंत) भी एक विकेटकीपर थे। मेरे जीवन में ये इस तरह ये सब शुरू हुआ”।

Also Read : IPL 2022 में बिना 1 मैच खेले करोड़पति बने ये 3 खिलाड़ी, पहले नंबर वाले पर छप्पर फाड़ के बरसा पैसा

युवाओं को दिए टिप्स कैसे बनें विकेटकीपर खिलाड़ी

ऋषभ पंत ने विकेटकीपिंग के लिए आगे आने वाले समय युवाओं के लिए क्या जरुरी है। ये भी कहा है। ऋषभ पंत ने कहा कि,

“अगर आप एक अच्छे विकेटकीपर बनना चाहते हैं, तब आपको खुद को चुस्त रखने की बहुत जरूरत है। अगर आप मैदान पर काफी फुर्तीले हैं, तो ये आपकी बहुत मदद करेगा। साथ ही दूसरी बात है, गेंद को आखिर तक देखते रहना है। कभी-कभी क्रिकेट में ऐसा होता है कि हम ये जानते हैं कि गेंद आ रही है। इसलिए हम ढीले भी पड़ जाते हैं। लेकिन आपको ऐसा नहीं करना है, इसे तब तक देखते रहना चाहिए जब तक आप इसे पकड़ नहीं लेते। आखिर में अनुशासित रहें और तकनीक पर काम करें”।

 

Also Read : IPL 2022: आईपीएल 2022 के वो पांच विवाद जिनकी वजह से शर्मसार हुआ जेंटलमैन गेम, 2 में तो पार हुईं सारी हदें