TEAM INDIA WORLD CUP 2023 BCCI

रविवार को टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ लगातार 8वीं जीत दर्ज की। भारत ने विश्व कप 2023 में शानदार प्रदर्शन को जारी रखा। विराट कोहली ने इस मैच में अपने करियर का 49वां वनडे शतक ठोका। वहीं, रवींद्र जडेजा ने इस टूर्नामेंट में अपना पहला 5 विकेट हॉल लेकर साउथ अफ्रीका की पारी को 83 रनों पर समेट दिया।

इस जीत के साथ टीम इंडिया प्वॉइंट्स टेबल में टॉप पर बनी हुई है। टीम के खाते में 16 अंक हैं। अब टीम को लीग स्टेज पर सिर्फ एक मैच खेलना है। इस बीच पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने टीम इंडिया को चेतावनी दी है कि उन्हें नॉकआउट मैचों में सावधान रहना होगा।

टीम इंडिया को रहना होगा सावधान

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान मिस्बाह-उल-हक का मानना है कि टीम इंडिया के लिए सबसे बड़ा खतरा उसका पसंदीदा होना है। फैंस को उम्मीद है कि रोहित शर्मा की अगुवाई वाली टीम सेमीफाइनल मैच में जीत दर्ज करने में कामयाब होगी। टीम पर दवाब होगा, ऐसे में भारतीय खिलाड़ियों के लिए खेलना मुश्किल होगा। मिस्बाह ने टीम इंडिया को नॉकआउट मैच के लिए चेतावनी दी है।

उन्होंने कहा कि,

“एक बात पक्की है। हां, यह ग्रुप चरण है, ठीक है, लेकिन जब वे नॉकआउट चरण में जाते हैं, तो एक टीम जितना अच्छा खेलती रहती है और जीत के लिए पसंदीदा बन जाती है, उस पर दबाव उतना ही अधिक होता है। और एक बार जब कोई टीम उस पसंदीदा टीम को 1-2 ओवरों में दबाव में डाल देती है, तो उनके पास खोने के लिए बहुत कुछ होगा।”

बाकी टीमों को पूर्व कप्तान ने दी ये सलाह

इस दौरान पूर्व पाकिस्तानी कप्तान ने बाकी टीमों को बचे मैचों में जीतने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि अभी अन्य टीमों के पास सेमीफाइनल में पहुंचने का सुनहरा मौका है। इसके लिए टीमों को सबसे पहले मानसिक रुप से मजबूत होना होगा।

मिस्बाह ने आगे कहा कि,

“अन्य टीमों के पास अभी भी वर्ल्ड कप 2023 जीतने का काफी मौका है। मुझे लगता है कि आपको पहले मानसिक रूप से इस स्थिति से बाहर निकलने की जरूरत है। टीम इंडिया ने अब तक टूर्नामेंट में इतना अच्छा खेलकर हर दूसरी टीम को दबाव में रखकर 50 प्रतिशत लड़ाई पहले ही जीत ली है। इसलिए वर्ल्ड कप जीतने के लिए टीमों को यह विश्वास करना होगा कि वे मानसिक रूप से इससे उबर सकती हैं और भारत को हरा सकती हैं।”

ALSO READ: IND vs SA: ‘मैं कप्तान की तरह सोचता हूं लेकिन…’ साउथ अफ्रीका के खिलाफ 5 विकेट चटकाकर ये क्या बोल गये रवींद्र जडेजा