IND vs SA: IPL से मिला दक्षिण अफ्रीका को सबसे घातक खिलाड़ी, टीम इंडिया के लिए बना सबसे बड़ा मुसीबत

भारतीय क्रिकेट टीम को कुछ घंटों के बाद 9 जून से दक्षिण अफ्रीका (SOUTH AFRICA) के खिलाफ सीरीज खेलना शुरू करना है। जिसका पहला मुकाबला दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में खेला जाएगा। इस मैच के लिए भारतीय युवा ब्रिगेड तैयार है। तो वहीं दक्षिण अफ्रीका की टीम भी तैयार है। दक्षिण अफ्रीका (SOUTH AFRICA) की टीम ने शामिल बल्लेबाज डेविड मिलर (DAVID MILLER) ने आईपीएल में शानदार बल्लेबाजी करके दिखाई थी। साथ में ही वो खिताब जीतने वाली टीम गुजरात टाइटंस (GT ) का हिस्सा थे। जिसके बाद खिलाड़ी ने इस सीरीज को लेकर अपने खेलने के रुख के बारे में बात भी की है। जानिए क्या कहा दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी डेविड मिलर ने…

खेल को अब और बेहतर समझने लगा हूं : डेविड मिलर

DAVID MILLER

अनुभवी खिलाड़ी डेविड वार्नर कहना है कि वो एक दशक पहले जैसा खेलते थे। उसी तरह खेलना पसंद करते है, लेकिन अब वो खेल और और बेहतर समझने लगे हैं। डेविड। मिलर ने कहा ” आईपीएल के शुरू होने से पहले मेरा लक्ष्य अधिक रन बनाना था और जीत में मैच में फिनिशर की भूमिका निभाना था। (मिडिल ऑर्डर पर बल्लेबाजी) मैं यह नहीं कहूंगा कि मैंने अपने खेल में कुछ अलग करने की कोशिश की। मैं लंबे समय से क्रिकेट खेल रहा हूं और समय के साथ खिलाड़ी परिपक्व होता है। मैं भी अब अपने खेल को बेहतर समझता हूं”। बता दें, आईपीएल में डेविड मिलर ने 481 रन बनाए है और अपने देश के लिए 95 टी20 मुकाबले खेल चुके हैं।

Also Read : IND vs SA: अफ्रीका के खिलाफ पहले टी20 से पहले ही राहुल द्रविड़ ने तोड़ा इस प्लेयर का दिल, कहा- हर किसी को नहीं दे सकता जगह

अभी भी नर्वस होता हूं : डेविड मिलर

david miller gt

दक्षिण अफ्रीका के 32 साल के खिलाड़ी डेविड मिलर का कहना है कि वो अभी भी खेल में नर्वस हो जातेहैं। डेविड मिलर ने कहा “मैं अभी भी नर्वस होता हूं और नकारात्मक सोचने लगता हूं। लेकिन अब खेल में अपने ऊपर दबाव का सामना बखूबी कर पाता हूं। मझे अनुभव के साथ अपने खेल को बेहतर समझने से ही मदद मिली”।

साथ ही खिलाड़ी का मानना है कि आईपीएल के बाद छुट्टियां बिताकर वो रिलेक्स महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा “मैं चेंज रूम में वह ठहराव लेकर आता हूं। टीम में शामिल युवा खिलाड़ियों की मदद की कोशिश करता हूं और खुद को भी बेहतर करने का प्रयास रहता है। साथ ही युवाओं से सीखता भी हूं। आईपीएल के अच्छे प्रदर्शन के बाद उनपर कोई अतिरिक्त दबाव नहीं था। हर इंटरनेशनल मैच में दबाव होता है। लेकिन मैं इसको उस तरह से नहीं देखता हूं कि अब अनुभव के साथ दबाव का बखूबी सामना कर रहा हूं। आईपीएल के बाद मालदीव में दो दिन के ब्रेक से तरोताजा होने में काफी मदद मिली है”।

Also Read : जिस खिलाड़ी को रोहित शर्मा बेंच पर बैठा करवाते थे इंतज़ार, वही खिलाड़ी बनेगा KL RAHUL का डेथओवर स्पेशलिस्ट गेंदबाज