ऐसे 3 भारतीय बल्लेबाज़ जिन्होंने एशिया के बाहर 100 से कम गेंदों में शतक लगाने का किया है कारनामा
ऐसे 3 भारतीय बल्लेबाज़ जिन्होंने एशिया के बाहर 100 से कम गेंदों में शतक लगाने का किया है कारनामा

भारतीय क्रिकेट टीम और इंग्लिश टीम के बीच एक जुलाई से पांच दिन का टेस्ट मैच शुरू हो चुका है। जिसके पहले दिन भारतीय क्रिकेट टीम ने टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए 7 विकेट के नुकसान पर 338 रन बनाए। ये स्कोर इंग्लैंड की सरजमीं पर भारतीय क्रिकेट टीम लंबे के लंबे समय तक कोई संघर्ष के बाद बना है।

भारतीय टीम ने एक जुलाई 2022 को मात्र 98 रन पर अपनी आधी बल्लेबाजी को दी थी। देखकर कहा जा सकता था कि टीम पहली पारी में 200 तक भी नहीं पहुंचेगी। लेकिन ऋषभ पंत और रविंद्र जडेजा की बल्लेबाजी के बाद भारतीय टीम ने 32 साल बाद पहले टीम इतना अच्छा प्रदर्शन किया।

भारतीय टीम का 32 साल बाद ये कारनामा

IND vs ENG: ऋषभ पंत ने एक शतक ने तोड़े कई रिकॉर्ड, लगाया छक्को से शतक, ऐसा करने वाले बने सबसे युवा बल्लेबाज

भारतीय क्रिकेट टीम ने राहुल द्रविड़ की कप्तानी में आखिरी बार इंग्लैंड में जाकर टेस्ट सीरीज जीती थी। लेकिन एक जुलाई को भारतीय क्रिकेट टीम में सात विकेट के नुकसान पर 338 रन बनाए, जोकि टीम के द्वारा 32 साल बाद पहले दिन का अच्छा प्रदर्शन था। इसके पहले 1990 में इंग्लैंड टीम ने 338 रन बनाए थे।

साथ ही इसके पहले ओवल में भारत ने 324 रन पहले दिन चार विकेट खोकर बनाए थे, लेकिन अब इस रिकॉर्ड को भारत ने तोड़ दिया है। ऐसा हुआ इसके पीछे मुख्य कारण ऋषभ पंत और रविंद्र जडेजा थे।

Also Read : India vs England: इंग्लैंड में भारत को इतिहास रचने में ये 3 खिलाड़ी बनेंगे रोड़ा, तोड़ सकते है भारत का सपना

पहले दिन भारतीय टीम की 338 रन की पारी

ऋषभ पंत
ऋषभ पंत

बर्मिंघम के एजबेस्टन स्टेडियम में टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। जसप्रीत बुमराह की कप्तानी में उतरी भारतीय टीम ने टॉस हारकर 100 रन के भीतर ही अपने पांच बल्लेबाज शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, हनुमा विहारी, विराट कोहली और श्रेयस अय्यर को खो दिया था। जिसके बाद ऋषभ पंत के शतक और रविंद्र जडेजा की पहले दिन तक नाबाद पारी जोकि अच्छे स्ट्राइक रेट के साथ खेली गई। इनके तहत 7 विकेट के नुकसान पर 338 रन बनाए हैं।

विराट कोहली

बता दें, विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने चोट से जूझने के बाद भी क्रीज पर 111 गेंदों में 20 चौके और 4 छक्कों की मदद से 146 रन की पारी खेली। इसी के साथ ही खिलाड़ी का स्ट्राइकरेट भी 131.53 का था। वहीं ऑल राउंडर खिलाड़ी रविंद्र जडेजा 163 गेंदों में 10 चौकों की मदद से 83 रन बनाकर नाबाद लौटे।

भारतीय टीम के इन्हीं दो खिलाड़ियों के दम कर भारतीय टीम ने 330 रन का आंकड़ा पार किया। जोकि 32 साल बाद अब अपने आप में ऐतिहासिक है। ऋषभ पंत और रविंद्र जडेजा के बीच छठे विकेट के लिए 222 रन की साझेदारी हुई। जो इंग्लैंड में भारत की छठे विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी है।

Also Read : IND vs ENG: ऋषभ पंत ने एक शतक ने तोड़े कई रिकॉर्ड, लगाया छक्को से शतक, ऐसा करने वाले बने सबसे युवा बल्लेबाज