5 महान क्रिकेटर जिन्होंने अपने देश के लिए लगाया रनों का अंबार, लेकिन कभी नहीं मिला विश्व कप खेलने का मौका
5 महान क्रिकेटर जिन्होंने अपने देश के लिए लगाया रनों का अंबार, लेकिन कभी नहीं मिला विश्व कप खेलने का मौका5 महान क्रिकेटर जिन्होंने अपने देश के लिए लगाया रनों का अंबार, लेकिन कभी नहीं मिला विश्व कप खेलने का मौका

सीमित ओवरों के क्रिकेट का शिखर माने जाने वाले वनडे और टी20 वर्ल्ड कप के लिए सभी टीम अपने बेस्ट के साथ उतरना चाहती हैं, साथ ही इसके लिए कई योजनाएं भी बनाई जाती हैं। वर्ल्ड कप के आगामी प्रारूप के लिए भी टीमों द्वारा खेली जाने वाली द्विपक्षीय सीरीज को भी ध्यान में रखा जाता है।

50 सालों के सीमित ओवर के क्रिकेट इतिहास के कुछ ऐसे दिग्गज खिलाड़ी हुए हैं। जिन्होंने वर्ल्ड कप में शानदार प्रदर्शन किया है। हालांकि कुछ ऐसे दिग्गज खिलाड़ी भी रहे हैं जिन्हें वर्ल्ड कप में कभी खेलते नहीं देखा गया। आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिए ऐसे 5 दिग्गज खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे, जिनके द्वारा वर्ल्ड कप के दौरान कभी नहीं खेला गया।

एलिस्टर कुक

बहुत ही आश्चर्यजनक है, कि इंग्लैंड के पूर्व कप्तान सर एलिस्टर कुक को कभी वर्ल्ड कप के दौरान खेलते नहीं देखा गया। 2006 से अब तक के सबसे महान टेस्ट बल्लेबाजों में से एक एलिस्टर कुक द्वारा अपना वनडे डेब्यू करने के साथ 92 वनडे खेलें, और 69 में इंग्लैंड की कप्तानी भी की गई।

2015 वर्ल्ड कप से कुछ महीने पहले ऑस्ट्रेलिया में वह टीम से बाहर हो गए, इससे पहले वह 2007 और 2011 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड की टीम का हिस्सा नहीं रहे। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 92 वनडे मैच खेले जिसमें 36.41 की औसत के साथ 4 रन अपने नाम करने में कामयाब रहे।

इस दौरान उनके बल्ले से 5 शतक 19 अर्धशतक देखने को मिले। वहीं इंग्लैंड के लिए उनके द्वारा 4 टी20 इंटरनेशनल मैच भी खेले गए हैं, जिसमें 112.96 के स्ट्राइक रेट से वह मात्र 61 रन ही बनाने में कामयाब हो सके।

वीवीएस लक्ष्मण

एक दशक तक टेस्ट टीम में बेहतरीन खिलाड़ी रहे वीवीएस लक्ष्मण 2003 के वर्ल्ड कप के दौरान टीम में जगह बनाने के बहुत करीब थे। लेकिन उनके रिप्लेस पर ऑल राउंडर दिनेश मोंगिया को तरजीह दी गई। बीबीएस लक्ष्मण 2006 में एक बार वनडे टीम से बाहर हो जाने के बाद कभी अपनी वापसी नहीं कर सके।

दाएं हाथ के इस बल्लेबाज द्वारा अपने करियर के दौरान 1998 से 2006 के दौरान अपने करियर में 86 वनडे मैच खेले गए जिसमें 30.76 की औसत की सहायता से 2338 रन बनाने में कामयाब रहे। वनडे में उनके द्वारा 6 शतक और 10 अर्धशतक लगाए जा सके उनका हाईएस्ट स्कोर इस दौरान 131 रन रहा।

जस्टिन लैंगर

सबसे महान ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट सलामी बल्लेबाजों में शामिल जस्टिन लैंगर द्वारा अपने करियर के दौरान 105 टेस्ट मैच खेले गए, जिसमें ऑस्ट्रेलिया को वह मात्र 8 वनडे मैच में ही रिप्रेजेंट कर सकें, इन मैचों के दौरान उनके द्वारा 32 की औसत से 160 रन बनाए जा सके।
वही दाएं हाथ के इस बल्लेबाज द्वारा जो 105 टेस्ट खेले गए, उसमें 4474 की औसत की सहायता से 7696 रन वह अपने नाम कर सके। उनके द्वारा टेस्ट में 23 शतक 3 दोहरे शतक और 30 अर्धशतक लगाए गए हैं।

READ ALSO: एशिया कप 2022 के बाद अब इन तीन खिलाड़ियों का कट सकता है पत्ता, टी20 विश्व कप खेलने का टूटेगा सपना

चेतेश्वर पुजारा

भारत के लिए टेस्ट में देश और विदेश में वीवीएस लक्ष्मण की तरह ही चेतेश्वर पुजारा द्वारा भी अच्छा प्रदर्शन करके दिखाया गया है। भारत की टेस्ट टीम का वह अभी भी हिस्सा है। वही 2013 और 2014 में भारत के लिए पुजारा सिर्फ पांच वनडे मैच खेले हैं। हालांकि इस दौरान उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा, उनके द्वारा 10.2 की औसत से सिर्फ 51 रन ही बनाए जा सके हैं।

दाएं हाथ के इस बल्लेबाज के टेस्ट करियर की बात की जाए तो उनके द्वारा 96 मैच खेले गए हैं, जिसमें 4382 की औसत की सहायता से 67 बार 90 रन बनाने में कामयाब रहे हैं। उनके नाम टेस्ट में 18 शतक, 3 दोहरे शतक और 33 अर्धशतक लगाए गए हैं।

मैथ्यू होगार्ड

इंग्लैंड के पूर्व तेज गेंदबाज मैथ्यू होगार्ड भी इस लिस्ट में अपना नाम दर्ज करवाने में कामयाब रहे हैं। उनके द्वारा 2001 और 2006 के बीच 26 वनडे मैच खेले गए, जिसमें उनके द्वारा सिर्फ 32 विकेट लिए जा सकें हैं।

इंग्लैंड के 2003 वर्ल्ड कप टीम का भी वह हिस्सा थे, लेकिन दुर्भाग्य से उस टूर्नामेंट के दौरान वह एक भी मैच नहीं खेल पाए।

Read Also:-रविंद्र जडेजा के साथ हुई साजिश! BCCI के इस जिद की वजह से T20 वर्ल्ड 2022 से बाहर हुए जडेजा, अब इस ऑलराउंडर को दिया मौका!