Bangladesh

क्रिकेट पंडितों से जब पूछा जाता है कि विश्व क्रिकेट में सबसे बड़ी प्रतिस्पर्धा किन-किन टीमों के बीच में होती है तो अक्सर भारत-पाकिस्तान और इंग्लैंड-ऑस्ट्रेलिया का जिक्र होता है. लेकिन इन सब प्रतिस्पर्धाओं को पीछे छोड़ते हुए श्रीलंका और बांग्लादेश ने एक नया जंग शुरू किया है. जब-जब श्रीलंका और बांग्लादेश की टीमें एक-दूसरे से भिड़ती है कुछ ना कुछ ऐसा घटित होता है जो पूरे टूर्नामेंट का हाईलाइट बन जाता है. कल खेले गए मुकाबले में भी कुछ ऐसा ही घटा. बांग्लादेश के दो बल्लेबाजों के खिलाफ श्रीलंका के सभी खिलाड़ी मैदान पर एकजुट हो गए.

मैथ्यूज के आउट होने से शुरू हुआ विवाद

जब मैच शुरू हुआ तो सब कुछ ठीक चल रहा था. लेकिन 25 वें ओवर में जब सदीरा समरविक्रमा आउट हुए और एंजेलो मैथ्यूज बल्लेबाजी करने के लिए आए तो उनके खिलाफ शाकिब अल हसन ने टाइम आउट का अपील कर दी.

क्रिकेट के इतिहास में आज तक किसी भी खिलाड़ी को टाइम आउट नहीं दिया गया था, लेकिन मैथ्यूज वह पहले खिलाड़ी बन गए जिनको टाइम आउट दिया गया.

अब अगर शाकिब अल हसन खेल भावना दिखाते और अपना अपील वापस कर लेते तो मैथ्यूज आउट ना होते और विवाद नहीं शुरू होता, लेकिन शाकिब अल हसन से दो बार पूछा गया और उन्होंने दोनों बार अपील वापस लेने से मना कर दिया.

मैदान में भिड़ गए खिलाड़ी

मैच जब खत्म होने वाला था तब श्रीलंकाई बल्लेबाज समरविक्रमा और तौहीद हृदयोय एक दूसरे से भिड़ गए. तौहदी और मेहंदी हसन मिराज के खिलाफ श्रीलंका के सभी खिलाड़ी एकजुट हो गए.

अंपायरों ने बीच-बचाव करने की कोशिश की लेकिन दोनों टीमों के खिलाड़ियों के बीच जमकर गहमा-गहमी हुई. हद तो तब हो गई जब श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने बांग्लादेश के किसी भी खिलाड़ी से हाथ मिलाने से मना कर दिया. इस घटना से आप समझ सकते हैं कि यह विवाद कितना जटिल है और कितने लंबे दिनों तक जाएगा.

ALSO READ: Team India: ‘रोहित के बजाय उसकी तारीफ होनी चाहिए…’ गौतम गंभीर ने इस खिलाड़ी को दिया भारत की सफलता का श्रेय