कोच और कप्तान को नजरअंदाज कर शुभमन गिल ने इस शख्स को समर्पित किया अपना शतक और प्लेयर ऑफ द सीरीज अवार्ड
कोच और कप्तान को नजरअंदाज कर शुभमन गिल ने इस शख्स को समर्पित किया अपना शतक और प्लेयर ऑफ द सीरीज अवार्ड

शुभमन गिल (130) के शानदार शतक की बदौलत टीम इंडिया ने सोमवार को जिम्बाब्वे को रोमांच से भरे तीसरे व अंतिम वनडे (IND vs ZIM) में 13 रन से हरा दिया। भारत ने हरारे में पहले बल्‍लेबाजी की और निर्धारित 50 ओवर में 8 विकेट खोकर 289 रन बनाए। 

जवाब में जिम्बाब्वे की टीम 49.3 ओवर में 276 रन बनाकर ऑलआउट हुई। मेजबान टीम की तरफ से सिकंदर रजा (115) ने उम्‍दा पारी खेली और उनके आउट होने पर ही पासा पलटा व भारत ने जीत दर्ज की।

केएल राहुल की कप्तानी में पहली सीरीज जीत

KL RAHUL INDIAN CAPTAIN ZIM

कार्यवाहक कप्तान केएल राहुल की अगुवाई में टीम इंडिया ने अब तक दमदार प्रदर्शन किया है। भारत ने पहला वनडे 10 विकेट से अपने नाम किया जबकि दूसरे मैच में 5 विकेट से जीत दर्ज की। 

राहुल ने अब तक युवा खिलाड़ियों को अच्छा प्रदर्शन करके टीम में अपनी जगह पक्की करने का पूरा मौका दिया है। गेंदबाजों ने जिंबाब्वे दौरे पर जबरदस्त छाप छोड़ी है।

ALSO READ: ZIM vs IND: कप्तान केएल राहुल ने तो डूबा ही दी थी भारत की लुटिया, अगर 49वें ओवर में शार्दुल ने नहीं चली होती ये चाल तो भारत की हार थी पक्की

शुभमन गिल को चुना गया प्लेयर ऑफ द सीरीज और प्लेयर ऑफ द मैच

SHUBHMAN GILL

तीनों मैचों में शुभमन गिल ने अपने बल्ले से छाप छोड़ी। आखरी मैच में उन्होंने अपना पहला वनडे शतक जड़ा air एक शानदार कैच भी ली। उन्हे प्लेयर ऑफ द मैच और प्लेयर ऑफ द सीरीज दोनो से नवाजा गया। पोस्ट मैच प्रेजेंटेशन में उन्होंने कहा,

“मैं सिर्फ अपने डॉट बॉल पर्सेंटेज को कम करने की कोशिश कर रहा था। मैंने जितना हो सके गैप में हिट करने की कोशिश की। जब मैं अंदर गया तो कुछ गेंदबाज अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे। इसे खेल पाना महत्वपूर्ण था। एक बार जब हम टिक गए, तो हमें पता था कि हम तेज़ हो सकते हैं। बल्ला काफी अच्छा था। इसलिए मैंने इसे 50 के बाद बदल दिया, मैं इसे सहेजना चाहता था। निश्चित रूप से विशेष (अपना पहला अंतरराष्ट्रीय शतक लगाने पर)।”

ALSO READ: मुझसे शादी करोगे? लाइव शो में लड़की ने किया प्रपोज तो सबके सामने ही कुछ ऐसा कह गया पाकिस्तानी क्रिकेटर

शुभमन गिल ने अपने पिता को ये शतक और मैन ऑफ द सीरीज समर्पित करते हुए कहा कि

“(इस टीम में खेलते हुए) यह बहुत अच्छा लगता है, बहुत सारे खिलाड़ी। अच्छा लगता है जब आप एक ही ग्रुप के साथ होते हैं। मेरे पिता मेरे प्राथमिक कोच रहे हैं। दूसरे वनडे में आउट होने के बाद मुझे स्कूली शिक्षा मिली, इसलिए मैं इसे उन्हें समर्पित करता हूं।”

ALSO READ: ZIM vs IND: शुभमन गिल ने तोड़ा सचिन तेंदुलकर का विश्व रिकॉर्ड, 8 बल्लेबाजों को पीछे छोड़ रचा इतिहास, ऐसा करने वाले बने पहले बल्लेबाज