जब तक कोई उंगली नहीं करता मेरा एग्रेसन बाहर नहीं आता है: युजवेंद्र चहल
मैन ऑफ द मैच लेते हुए युजवेंद्र चहल ने कोच राहुल द्रविड़ को नजरअंदाज कर इन्हें दिया अपनी घातक गेंदबाजी का श्रेय

भारत ने मंगलवार को विशाखापट्नम के डॉ वाई.एस. राजशेखर रेड्डी एसीए-वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए पांच मैचों की टी20 सीरीज (IND vs SA) के तीसरे मैच में साउथ अफ्रीका को 48 रनों से हरा दिया। भारत की इस साल दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ किसी भी फॉर्मेट में यह पहली जीत है, अब तक खेले गये 5 मैचों की टी20 सीरीज में भारत को 2 मैचों में हार का सामना करना पड़ा है, तो वहीं उसे 1 में जीत हासिल हुई है। 

भारत के मजबूत स्कोर के आगे नहीं टिका साउथ अफ्रीका

YUZVENDRA CHAHAL

जीत के बाद भारत ने सीरीज जीतने की अपनी उम्मीदों को जिंदा रखा है। हालांकि हार के बावजूद साउथ अफ्रीका अभी सीरीज में 2-1 से आगे है। भारतीय टीम ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 5 विकेट पर 179 रन का स्कोर बनाए। 

मेजबान टीम के लिए ऋतुराज गायकवाड़ ने 57 और ईशान किशन ने 54 रनों की पारी खेली, जबकि हार्दिक पांडया ने नाबाद 31 रन बनाए। इसके जवाब में दक्षिण अफ्रीका की टीम 19.1 ओवर में 131 रन पर ढेर हो गई।

ALSO READ: IND vs SA: “दुर्भाग्य से हम ऐसा नहीं कर सके” हार से निराश साउथ अफ्रीकी कप्तान टेम्बा बावुमा ने बताया कहां हो गई चूक

युजवेंद्र चहल ने जीता प्लेयर ऑफ द मैच

YUZVENDRA CHAHAL

युजवेंद्र चहल ने इस मैच में बेहद ही शानदार गेंदबाजी की। उन्होंने तीन बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया जिसमें क्लासेन, रस्सी और प्रेटोरियस का विकेट शामिल है। चहल ने 4 ओवर गेंदबाजी की और 5 की इकोनॉमी के साथ 20 रन देकर 3 विकेट हासिल किये जिसके लिए उन्हें उन्हें प्लेयर ऑफ़ द मैच चुना गया।

पोस्ट मैच प्रेजेंटेशन में युजवेंद्र चहल ने कहा,

“मैंने तेज लेगब्रेक गेंदबाज़ी करने की कोशिश की लेकिन आज एक अलग सीम पोज़िशन के साथ। मैं गेंद को टर्न और डिप कराना चाहता था, मैं आखिरी बार ऐसा नहीं कर सका इसलिए वे लाइन के माध्यम से हिट करने में सक्षम थे। मैंने कुछ टर्न लेने और गेंद की लाइन बदलने की कोशिश की। मैं आज अपनी ताकत के मुताबिक गेंदबाज़ी करने की कोशिश कर रहा था। जब आप मध्यक्रम के बल्लेबाज़ों को बीच के ओवरों में आउट करते हैं तो उन पर दबाव होता है। बल्लेबाज़ इन दिनों काफी स्वीप और रिवर्स स्वीप करने की कोशिश करते हैं इसलिए हमें गेंदबाज़ों के रूप में इसके लिए भी तैयार रहना होगा। पिछले गेम में भी स्पिनरों को कुछ मदद मिली थी लेकिन मैंने उतनी अच्छी गेंदबाज़ी नहीं की। शुक्र है राजकोट में मैदान बड़ा है(हंसते हुए)।”

ALSO READ: IND vs SA: साउथ अफ्रीका के खिलाफ मिली जीत के बाद भी इन खिलाड़ियों पर फूटा कप्तान ऋषभ पंत का गुस्सा, इस खिलाड़ी को दिया जीत का श्रेय