धोनी की जगह युवराज की कप्तानी पर बोले हरभजन, कहा- 'अगर युवराज सिंह टीम इंडिया के कप्तान होते तो मेरा करियर और...'

भारतीय क्रिकेट टीम के टर्बनेटर के नाम से पहचाने जाने एक हरभजन सिंह (HARBHAJAN SINGH) ने 1998 में टीम के लिए डेब्यू किया था और 2016 में अपना आखिरी इंटरनेशन खेला था। हरभजन सिंह (HARBHAJAN SINGH) ने कई कैप्टन की कप्तानी में भारतीय टीम ने और IPL टीम में क्रिकेट खेला है। जिसके बाद अब हरभजन सिंह में भारतीय टीम के पूर्व ऑल राउंडर खिलाड़ी युवराज सिंह YUVRAJ SINGH) अगर कप्तान बनते तब क्या होता? इस बात का भी जिक्र किया है। जानिए क्या कहा हरभजन सिंह ने…

हरभजन सिंह ने कहा दोस्ती अलग और कप्तानी अलग

Harbhajan-Singh

भारतीय क्रिकेट टीम में युवराज सिंह और भज्जी काफी अच्छे दोस्त माने जाते थे। जिसके बाद अब खिलाड़ियों की रिटायरमेंट के बाद हरभजन सिंह ने युवराज सिंह अगर कैप्टन बनते तब क्या होता? इस बात का जिक्र किया है। हरभजन सिंह ने हस्ते हुए कहा कि अगर युवराज सिंह टीम के कैप्टन बन जाते तो उन्हें जल्द सुबह उठना और रात में जल्दी सोना पड़ता। युवराज सिंह के इस पक्ष के मजाक के बाद हरभजन सिंह ने कहा कि उसके रिकॉर्ड बताते हैं कि वो एक अच्छे कप्तान साबित होते।

हरभजन ने बताया कि “मुझे नहीं लगता कि अगर युवराज कप्तान होते तो हमारा करियर लंबा होता। क्योंकि हमने जो भी खेला है, वह सभी कुछ अपनी काबिलियत पर खेला है और किसी भी कप्तान ने हमें बाहर होने से नहीं बचाया। जब भी आप देश की कप्तानी करते हैं, तो आपको दोस्ती को एक तरफ रख कर पहले देश के बारे में सोचने की जरूरत होती है। अगर युवराज सिंह भारतीय कप्तान होते, तो हमें जल्दी सोना पड़ता और जल्दी उठना पड़ता (हंसते हुए)। हमें बहुत मेहनत करनी पड़ती। वह एक महान कप्तान होते। उनका रिकॉर्ड खुद ब खुद बयां करता है क्योंकि उन्होंने 2011 विश्व कप में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट जीता था”।

तेज गेंदबाजी से शुरुआत करने के बाद बने स्पिनर

harbhajan_singh

हरभजन सिंह ने अपने कैरियर की शुरुआत एक बल्लेबाज और तेज गेंदबाज के तौर पर की थी। इस बात को वो खुद भी मानते हैं। हरभजन सिंह ने कहा “मैंने एक बल्लेबाज तौर पर और एक तेज गेंदबाज के तौर पर अपने कैरियर की शुरुआत की थी। मुझे नहीं पता कि एक स्पिनर के रूप में मैं कैसे आगे बढ़ा? लेकिन शायद जब उस समय मुझसे पूछा गया कि मैं क्या करता हूं, तो मुझे कहना चाहिए था कि मैं बल्लेबाजी करता हूं। क्योंकि जब आप बल्लेबाज होते हैं और भारत के लिए खेलते हैं तो पूरी दुनिया आपके कदमों में होती है। क्रिकेट बल्लेबाजों का ही खेल है, आप शायद ही किसी गेंदबाज को ‘सुपरस्टार’ पाएंगे। लोग चौके और छक्के मारना चाहते है”।

Also Read : धोनी से अनबन पर बोले Harbhajan Singh, कहा- कप्तानी को लेकर मुझे धोने से..