axar patel press confrenss

किसी ने सच ही कहा है कि सब वक्त-वक्त की बात है. आज जो है हो सकता है कि कल ना हो. और, हम जो बताने जा रहे हैं उसमें भी कुछ ऐसा ही है. चीफ सेलेक्टर अजीत अगरकर समेत चयनकर्ताओं की पूरी मंडली ने ये सोचा भी नहीं होगा कि उन्हें उसी से ऐसा करारा जवाब मिलेगा, जिसे उन्होंने भारत की T20 इंटरनेशनल टीम से बाहर कर दिया था, लेकिन, वक्त का खेल देखिए.

अजित अगरकर एंड कंपनी के वो फैसला लेने के 24 घंटे बाद ही उस खिलाड़ी ने बोलती बंद करने वाला जवाब दिया. जवाब देने वाले और भारतीय T20I टीम से निकाले गए उस खिलाड़ी का नाम है अक्षर पटेल.

30 नवंबर को अक्षर पटेल के साथ हुई नाइंसाफी

तारीख 30 नवंबर. भारतीय चयनकर्ताओं ने दिल्ली में बैठकर साउथ अफ्रीका दौरे के लिए टीम का ऐलान किया. T20I, वनडे और टेस्ट तीनों ही फॉर्मेट के लिए टीम चुनी गई. उम्मीद यही थी कि अक्षर पटेल का सेलेक्शन T20I में भी होगा. लेकिन जब टीम आई तो सिर्फ वनडे फॉर्मेट में ही उनका नाम था.

टी20 इंटरनेशनल में नदारद. अब 24 घंटे बाद अक्षर पटेल ने ये बात साबित कर दी की भारतीय चयनकर्ताओं ने उन्हें T20 की टीम में नहीं चुनने का जो फैसला किया है, वो गलत है.

1 दिसंबर को अक्षर पटेल ने दिया करारा जवाब

तारीख 1 दिसंबर 2023. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच रायपुर में 5 मैचों की सीरीज का चौथा T20I खेला गया. इस मुकाबले में अक्षर पटेल बल्ले से खाता भले ना खोल पाए, लेकिन, उसकी भरपाई उन्होंने गेंदबाजी में हाईएस्ट लेवल पर जाकर की. उन्होंने 4 ओवर की गेंदबाजी में सिर्फ 16 रन देकर 3 विकेट चटकाए.

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के टॉप 4 में से 3 का शिकार किया. इसी के साथ बापू यानी अक्षर पटेल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ T20I में जसप्रीत बुमराह के 16 विकेटों के बाद सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय बन गए. अक्षर पटेल के T20I में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 7 मैचों में 13 विकेट हैं.

शानदार प्रदर्शन के बाद क्यों नहीं मिला अक्षर पटेल को मौका?

मैच के बाद अक्षर पटेल ने अपनी इस शानदार सफलता का राज खोला और बताया कि एशिया कप के दौरान चोटिल होकर जब वो टीम इंडिया से दूर थे तब उन्होंने अपनी गेंदबाजी पर भरपूर काम किया था. अब जो दिख रहा है वो उसी का नतीजा है. अक्षर मेंटली स्ट्रॉन्ग भी हैं.

दबाव में मैच के दौरान कभी घबराते नहीं हैं. उनके इस मिजाज को और अच्छे से समझने के लिए T20 सीरीज में कप्तानी कर रहे सूर्यकुमार यादव का ये बयान ही काफी है कि उन्हें अक्षर पटेल को दबाव में डालना अच्छा लगता है.