व 7 - 1
मुगलों से खुद का बचाव करने के लिए औरते पहनती थी ये खास चीज, पास आने से डरते थे मुगल

भारत पर मुगलों का शासन कई सालों तक मुगलों का शासन रहा। उनका शासन काल बहुत ही ज्यादा चर्चा में था। महिलाएं उनसे बचती थी। मुगल शासकों का महिलाओं पर विशेष नजर आता था। महिलाएं उनसे बचती रहती थी। उनकी नजरें महिलाओं पर रहती थी।

राजस्थान में आज भी है घूंघट प्रथा

राजस्थान में यह घूंघट प्रथा तब से चालू हुई जब मुगलों का देश पर शासन था। राजस्थान में घूंघट प्रथा है, जो कि मुगलों से बचने के लिए महिलाएं लेती थी। मुगल शासक महिलाओं पर बुरी नजर रखते थे। वहां पर ताबीज प्रथा भी शुरु हुई। ताबीज सुअर के बालों से बना होता था।

राजस्थान का एक नियम बन चुका है घूंघट

घुंघट और ताबीज महिलाओं के लिए जरुरी होता था। ताबीज में सुअर का बाल लगा होता।  महिलाएं ताबीज पहनती थी। महिलाएं मुगल शासकों से बचने के लिए महिलाएं और दुल्हन ने गले में ताबीज पहनती थी। क्योंकि मुगल किसी भी इसलिए को उठाते थे और उसे लेकर जाते थे ।

घूंघट करती थी महिलाएं

महिलाएं घुंघट करती थी ताकि वह मुगल शासकों से अपना बचाव कर सके जो की बहुत ही प्रभावी कदम हुआ। वहीं दुल्हनों के गले में ताबीज बांधा जाता था, जिसे ढुलना कहते थे।

मुगल को इस बात का पता रहता था कि ताबीज के अंदर सुअर के बाल होते थे ऐसे में मुगल दुल्हनों को नहीं छूते थे।

लाल धागे में ताबीज बना होता था, जिसे ढोलना कहते हैं। अब यह राजस्थान का एक प्रथा बन चुका है और उसे दुल्हन का बड़ा भाई या जेठ उसे देता है, जिसे दुल्हन पहनती है।

ये भी पढ़ें-एक नंबर के अय्याश हैं वेस्टइंडीज के ये 5 खिलाड़ी, बिना पार्टी के नहीं रह सकते, एक ने तो बनाए हैं 650 से भी ज्यादा लड़कियों से संबंध