लखनऊ/उत्तर प्रदेश: अपराध मुक्त उत्तर प्रदेश सरकार व अपराधियो के मन मे अपने खौफ का दावा करने वाली उत्तर प्रदेश पुलिस की लापरवाही का काला चेहरा सामने आया है। जिससे साफ होता है। उत्तर प्रदेश पुलिस अपने कार्य को लेकर कितनी लापरवाह है । राजधानी लखनऊ के काकोरी में आपसी रंजिश को लेकर कुछ लोगों ने एक व्यक्ति पर प्राणघातक हमला किया था। जिसकी रिपोर्ट पीड़ित की माता ने काकोरी थाने में दर्ज कराई थी। पर अभी तक इस मामले पर पुलिस प्रशासन की ओर से किसी भी तरह की कोई कार्रवाही नहीं कि गयी और न ही अपराधियों की गिरफ्तारी की गई है।

आपसी रंजिश के चलते हुआ था हमला

दरअसल , यह पूरा मामला लखनऊ के काकोरी थाना क्षेत्र के शाहपुर महोली का है । जहां के निवासी गुलशन कुमार पुत्र संतराम पर आपसी रंजिश के चलते उन्हीं के गांव के सुजीत लोधी पुत्र शांत राम लखन, मुन्ना माइकल, रंजीत, शिवकुमार ने एक राय होकर बीती 16 अगस्त 2021 को शाम तकरीबन 7 बजे गुलशन लोधी पर धारदार हथियारों से प्राणघाती हमला कर दिया। जिसकी वजह से पीड़ित गुलशन के गर्दन पर गहरी चोट भी आई है। काफी चोट लगने की वजह से पीड़ित बुरी तरह से खून से लथपथ हो गया। पीड़ित द्वारा दिये गए बयान के मुताबिक हमलावरों के पास मारने के लिए बांका, फरसा और लोहे के कई सारे हथियार थे।

पुलिस प्रशासन ने रिपोर्ट के बाद भी नहीं की कोई कार्यवाही

नाजुक हालात में पीड़ित की मां ने उसे लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भर्ती करवाया और काकोरी थाना में मामले की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। जिसके कुछ दिन बाद पीड़ित की हालत में सुधार होने पर काकोरी थाने से दरोगा पीड़ित का बयान दर्ज करने भी आये थे। पीड़ित ने उन्हें पूरा मामला बताया साथ ही हमलावरों का नाम और पहचान भी बताई थी। पर उसके बाद पुलिस प्रशासन की ओर से पीड़ित को न्याय दिलाने को लेकर कोई कार्रवाही नहीं हुई। अपराधी अभी आजाद घूम रहे हैं और पीड़ित के परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। पीड़ित पक्ष पुलिस प्रशासन से अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग कर रहा है।