NASEER HUSSAIN ON TEAM INDIA

भारतीय टीम को कुछ समय पहले ही ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले में करारी हार का सामना करना पड़ा था। उसके बाद वेस्टइंडीज को हराकर भारत ने नए टेस्ट चैंपियनशिप के साइकिल की शुरुआत की है। लेकिन इस बीच और इंग्लैंड के दिग्गज खिलाड़ी रह चुके नासिर हुसैन ने भारतीय टीम की एक बड़ी कमजोरी का जिक्र सबके सामने किया है। उन्होंने भारत की उन कमियों को खुलासा किया है जिसकी वजह से भारतीय टीम WTC की ट्रॉफी जीतने से चूक गई हैं।

नासिर हुसैन ने कही यह बड़ी बात

हाल ही में इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने भारतीय टीम में गेंदबाजों की कमी बताई है। उन्होंने बयान देते हुए कहा है कि,

“वे (भारत) अपनी जमीन पर शानदार हैं और अपने मैदान पर उनकी टीम का संतुलन काफी शानदार है, उन्होंने कहा, हालांकि, इस समय एक भारतीय क्रिकेटर जो (बेन) स्टोक्स की तरह का क्रिकेटर हो, कैमरन ग्रीन की तरह का क्रिकेटर हो, मिचेल मार्श की तरह का क्रिकेटर हो, वो विदेशों में छठे या सातवें नंबर पर बल्लेबाजी कर सके,

आपके लिए विकेट झटकने वाली ‘सीम और स्विंग’ से 10 या 15 ओवर गेंदबाजी कर सके, ऐसा गेंदबाज नहीं जो सिर्फ थोड़ी बल्लेबाजी कर पाये बल्कि ऐसा बल्लेबाज जो आपके लिए सीम गेंदबाजी के 10 ओवर दे सके..इससे विदेशों में यह संयोजन भारत को अजेय बना देगा.”

भारतीय टीम को है इन खिलाड़ियों की जरूरत

पूर्व क्रिकेटर यही नहीं रुके उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाया और कहा कि घरेलू मैदान पर कप्तान रोहित विराट कोहली शुभमन गिल जैसे खिलाड़ी भारत को जहां एक मजबूत इकाई बना देते हैं। तो वहीं विदेशों में हार्दिक पांड्या जैसा सीम गेंदबाजी ऑलराउंडर टेस्ट में निहायती जरूरी है।

हालांकि हार्दिक ने जब से पीठ की चोट से उबरने के बाद टीम में वापसी की है। उन्होंने लंबे प्रारूप खेलने की काम इच्छा दिखाई है।

बुमराह को लेकर कहीं बड़ी बात

बुमराह के लिए आयरलैंड दौरा काफी ज्यादा अहम है। क्योंकि वह इस दौरे से ना सिर्फ टीम में अपनी वापसी को दर्ज करा रहे हैं, बल्कि इसमें वह कप्तानी करते हुए भी दिखाई दे रहे हैं, जिस पर नासिर ने कहा है कि,

“अगर जसप्रीत (बुमराह) अच्छी वापसी करते हैं तो शानदार है जो इस समय कई प्रारूप खेलने वाले महान गेंदबाजों में से एक है”

ALSO READ: वेस्टइंडीज के महान खिलाड़ी इयान बिशप का बड़ा बयान, बताया क्यों 10 सालों से टीम इंडिया नहीं जीत सकी ICC ट्रॉफी