ASHWIN AGAINST PAKISTAN

पाकिस्तान के टेस्ट बल्लेबाज असद शफीक ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों को अलविदा कह दिया, चूंकि उन्हें महसूस हो रहा था कि खेल के लिए उनके जुनून में कमी आई है. 37 साल के शफीक ने रविवार को यह ऐलान किया. उन्होंने राष्ट्रीय टी20 चैम्पियनशिप में कराची व्हाइट्स को खिताब दिलाने के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा,

‘मुझे अब क्रिकेट खेलने को लेकर पहले जैसा रोमांच या जुनून महसूस नहीं हो रहा और अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के लिए फिटनेस का स्तर भी वैसा नहीं रह गया है. इसीलिए मैनें खेल को अलविदा कहने का फैसला किया है.’

मुख्य चयनकर्ता बन सकते हैं शफीक

असद शफीक ने बताया कि वह पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के पेड नेशनल सिलेक्टर बन सकते हैं. उन्होंने कहा,

‘मुझे बोर्ड से करार मिला है और मैं इस पर गौर कर रहा हूं. जल्दी ही इस पर हस्ताक्षर करूंगा.’

बता दें कि असद ने पाकिस्तान के लिए 2010 से 2020 के बीच 77 टेस्ट में 4660 रन बनाए, जिसमें 12 शतक और 27 अर्धशतक शामिल हैं. इसके अलावा उन्होंने 60 वनडे और 10 टी20 मैच भी खेले हैं.

संन्यास लेते हुए भावुक हुए असद शफीक

शफीक ने रिटायरमेंट लेने के फैसले पर कहा,

‘2020 में बाहर किए जाने के बाद, मैं तीन साल तक घरेलू क्रिकेट खेलता रहा. हां, पाकिस्तान टीम में एक और सफलता पाने की उम्मीद में, लेकिन इस सीजन की शुरुआत से पहले, मैंने तय कर लिया था कि यह मेरा आखिरी सीजन होगा. मुझे लगा कि 38 साल की उम्र में आकर, लोग मुझे पद छोड़ने के लिए कहें, इससे बेहतर है कि यह सही समय है रिटायर होने का.’

गौरतलब है कि असद शफीक ने अजहर अली, यूनिस खान और मिस्बाह उल हक के साथ मिलकर पाकिस्तान की टेस्ट बल्लेबाजी को मजबूत किया. मिस्बाह उल हक के नेतृत्व में पाकिस्तान टीम में अपने योगदान पर गर्व करते हुए, असद ने स्पॉट फिक्सिंग कांड के बाद के चुनौतीपूर्ण समय को भी याद किया. इस कांड के बाद टीम ने पाकिस्तानी क्रिकेट में लोगों का विश्वास फिर से हासिल करने के लिए काम किया.

ALSO READ: स्मृति मंधाना ने इंग्लैंड से लिया अंतिम 2 मैचों में हार का बदला, तीसरे मैच में 5 विकेट से जीता भारत, इंग्लैंड ने 2-1 से सीरीज किया नाम