20 साल के इस खिलाड़ी ने मचाया कोहराम, लगातार तीन शतक जड़ खटखटाया भारतीय टीम का दरवाजा
20 साल के इस खिलाड़ी ने मचाया कोहराम, लगातार तीन शतक जड़ खटखटाया भारतीय टीम का दरवाजा

इंडिया में इन दिनों कई यंग खिलाड़ियों को मौका दिया जा रहा हैं. हाल ही में आयरलैंड दौरे के लिए इंडिया टीम अनाउंस की गई हैं. इस टीम में कई यंग खिलाड़ियों को मौका दिय गया है. ऐसा ही एक खिलाड़ी है जिसने लगातार तीन शतक लगाकर बना दिया एक ऐतिहासिक रिकॉर्ड. इस खिलाड़ी ने आईपीएल (IPL) में भी बरपाया था कहर.

लगातार लगा दिए तीन शतक

Yashasvi Jaiswal

इन दिनों रणजी टूर्नामेंट खेला जा रहा है. इस टूर्नामेंट का दूसरा सेमीफाइनल मैच उत्तर प्रदेश (UP) और मुंबई (MUMBAI) के बीच खेला जा रहा है. इस मैच में मुंबई की तरफ से खेलने वाले यशस्वी जायसवाल (YASHASVI JAISWAL) ने कमाल ही कर दिया है. उन्होंने टूर्नामेंट में लगातार शतक लगा दिए हैं.

इस सेमीफाइनल मुकाबले में यशस्वी जायसवाल (YASHASVI JAISWAL) ने दोनों पारियों में शतक लगाया था. इससे पहले क्वार्टरफाइनल मैच में भी एक शतक जड़ा था, जिसमें उन्होंने 150 गेंदों में 103 रनों की पारी खेली थी.

ALSO READ: IND vs SA: भारत की जीत के बाद भी इस खिलाड़ी पर भड़के फैंस कहा उसे जल्दी टीम से बाहर करो, वहीं इस खिलाड़ी को मौका देने की उठी मांग

ऐसा कर बनाया रिकॉर्ड, बने चौथे बल्लेबाज़

yashasvi jaiswal
yashasvi jaiswal

रणजी ट्रॉफी में ऐसा कारनामा करने वाले यशस्वी जायसवाल (YASHASVI JAISWAL) चौथे बल्लेबाज़ बन गए हैं. इससे पहले रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे और वसीम जाफर ने ऐसा किया था. अब यशस्वी ने भी अपना नाम इस लिस्ट में दर्ज करवा लिया है.

सेमीफाइनल मुकाबले में उन्होंने पहली पारी में 100 रन बनाएं थे और वहीं, दूसरी पारी में बल्लेबाज़ी करते हुए यशस्वी ने 334 गेंदों में 162 रनों की शानदार पारी खेली थी. उनकी इस पारी में 1 छक्का और 21 चौके शामिल थे.

आईपीएल में भी किया कारनामा

YASHASVI JAISWAL

आईपीएल 2022 में यशस्वी जायसवाल चमकते हुए दिखाई दिए थे. उन्होंने आईपीएल खेलने की शुरुआत साल 2020 से की थी. सबसे पहले उन्हें राजस्थान रॉयल्स ने अपनी टीम में शामिल किया था. हालांकि, पहले सीजन में वो कुछ खास नहीं कर पाए थे. लेकिन साल 2021 और 2022 के आईपीएल में वो बहुत ही शानदार दिखे.

ALSO READ: सिर्फ एक ओवर की वजह से खत्म हुआ इस भारतीय खिलाड़ी का करियर, फिर मजबूरी में लेना पड़ गया संन्यास!