'अब उसका टेस्ट टीम में वापसी होना मुमकिन नहीं है' वसीम जाफर ने पांड्या की टेस्ट टीम में वापसी पर बड़ा बयान

भारतीय क्रिकेट टीम को एक जुलाई से इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच खेलना है। इसके पहले भारतीय टीम एक वार्मअप मैच भी खेल रही है। लेकिन इंग्लिश टीम के खिलाफ चुनी गई स्क्वाड में हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) मौजूद नहीं हैं। हार्दिक पांड्या ने लिमिटेड ओवर्स में वापसी कर ली है। लेकिन वो टेस्ट टीम में वापसी नहीं कर पाए है।

टेस्ट टीम में हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) को अभी स्थान नहीं दिया गया है। इसके पीछे की मुख्य वजह क्या हो सकती है? इसपर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रह चुके वसीम जाफर (Wasim Jaffer) ने वजह बताई है। वसीम जाफर ने कहा कि अभी हार्दिक पांड्या टेस्ट मैच ज्यादा ओवर गेंदबाजी नहीं कर पायेंगे। इसलिए उन्हें टीम में जगह नहीं दी गई है।

वसीम जाफर ने कहा गेंदबाजी न कर पाने के कारण मिली नहीं मिली हार्दिक को जगह

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी वसीम जाफर ने हार्दिक पांड्या के टेस्ट स्क्वाड में चयनित ना होने को लेकर उनकी गेंदबाजी ना कर पाना मुख्य वजह बताई है। उनका कहना है कि अभी हार्दिक पांड्या 15 से 18 ओवर तक गेंदबाजी नहीं कर पायेंगे। टेस्ट क्रिकेट में वो ऐसा नहीं कर पायेंगे।

जिसको उन्हीं रेड बॉल क्रिकेट से हार्दिक पांड्या के दूर रहने की मुख्य वजह बताई है। हार्दिक पांड्या ने भारतीय टीम ने 2016 में डेब्यू किया था। उन्होंने अब तक भारतीय टीम में 11 टेस्ट मैच खेले है। जिसमें 532 रन बनाए हैं और 17 विकेट चटकाएं हैं। इसमें उन्होंने एक शतक और चार अर्धशतक भी बनाए हैं।

वसीम जाफर ने कहा,

“भारतीय टीम में हार्दिक पांड्या को एक दिन में 15 से 18 ओवर गेंदबाजी करते हुए अभी नहीं देख सकते हैं क्योंकि पीठ की सर्जरी हुई है। क्या वो टीम में बैटिंग ऑर्डर में चार या पांच पर बल्लेबाजी करेंगे? मुझे टेस्ट क्रिकेट में ऐसा होता हार्दिक पांड्या की तरफ से नहीं दिख रहा है। इस वजह से हार्दिक पांड्या रेड-बॉल सर्किट में आने से बहुत दूर है। इसलिए मुझे लगता है कि अगर हम उन्हें वनडे में केवल चार ओवर या अधिकतम 10 ओवर गेंदबाजी और चार, पांच या छह पर बल्लेबाजी करने दें, तो इससे उन्हें अपने करियर को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी”।

हार्दिक ने कहा था कि जिम्मेदारी लेने में आता है मजा

वहीं हार्दिक पांड्या जोकि आयरलैंड के खिलाफ टेस्ट टीम के कप्तान है। उन्होंने कप्तानी मिलने के बाद जिम्मेदारी लेने के बाद ज्यादा अच्छा प्रदर्शन होता है, ऐसा माना है। हार्दिक पांड्या ने बतौर कैप्टन आईपीएल में पहली बार कप्तानी करके खिताब हासिल किया है। हार्दिक पांड्या ने कहा कि,

” ये मैं पहले भी कह चुका हूं, मुझे जिम्मेदारी लेने में मजा आता था और अब भी ऐसा मेरे साथ हुआ भी है। लेकिन अब मुझ में थोड़ी ज्यादा जिम्मेदारी आ गई है। मेरा ऐसा हमेशा से ही मानना रहा है कि मैंने जिम्मेदारी लेने के बाद बेहतर किया है। अगर मैं किसी भी चीज की जिम्मेदारी लेता हूं या अपने फैसले करता हूं। तब वे मजबूत होते हैं। क्रिकेट इस तरह का खेल है, जिसमें अलग अलग परिस्थितियों के दौरान मजबूत बने रहना बहुत अहम है”।

Also Read : इन 2 टीमों को सिर्फ 1 बार मिला विश्व कप खेलने का मौका, दोबारा इस वजह से नहीं बन सकीं ICC टूर्नामेंट का हिस्सा