ROHAN GAVASKAR

क्रिकेट की ऊपरी समझ रखने वाले यह समझते हैं कि भारतीय टीम में उन्ही का सलेक्शन होता है, जो बहुत ज्यादा टैलेंटेड होते हैं. लेकिन बाॅलीवुड और राजनीती के जैसे यहाँ भी भाई-भतीजावाद खूब चलता है. अगर ऐसा नही होता तो सुनील गावस्कर के बेटे रोहन गावस्कर को कभी टीम में मौका नही मिलता. आज के इस लेख में हम बात करेंगे पांच ऐसे खिलाड़ियों के बारे में जिनको टीम में जबरदस्ती शामिल किया गया.

मनप्रीत गोनी

ऐसा नही है कि मनप्रीत गोनी में टैलेंट नही था. वह एक मेहनती खिलाडी थे. लेकिन जिस प्रकार का क्रिकेट इंटरनेशनल लेवल पर खेला जाता है वह देखकर यह कहा जायेगा कि वह अपने समय के इंटरनेशनल खिलाड़ी बनने की काबिलियत नही रखते थे.

मनप्रीत गोनी ने भारतीय टीम के लिए 2 एकदिवसीय मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 38 की औसत से 2 विकेट अपने नाम किए. साथ ही आईपीएल के 44 मैचों में गोनी ने मात्र 37 विकेट ही हासिल किये थे. कहा जाता है धोनी के नजदीकी होने के वजह से उनको टीम में मौका मिला.

रोहन गावस्कर

रोहन गावस्कर भारत के महान खिलाड़ी सुनिल गावस्कर के बेटे हैं. उन्होंने साल 2004 में डेब्यू किया था. उन्होंने 11 एकदिवसीय मैच खेले है जिसमें उन्होंने 151 रन बनाये है.

इसके अलावा टी20 क्रिकेट में भी उन्होंने 10 मैचों में 113 रन ही बनाए हैं. कहा जाता है कि अपने पिता के नाम पर रोहन गावस्कर को भारतीय टीम में जगह दी गई थी.

ALSO READ:T20 World Cup 2022 हारकर भी मालामाल हुए पाकिस्तानी खिलाड़ी, हर एक खिलाड़ी को मिलेंगे इतने करोड़ रुपये

स्टुअर्ट बिन्नी

बीसीसीआई के वर्तमान अध्यक्ष रोजर बिन्नी के पुत्र स्टुअर्ट बिन्नी है. रोजर बिन्नी पर आरोप लगाया जाता है कि जब स्टुअर्ट बिन्नी की सलेक्शन की बात आती है तो वह कमरा छोड़कर बाहर चले जाते थे. स्टुअर्ट बिन्नी का सलेक्शन हुआ लेकिन वह कुछ ख़ास प्रदर्शन टीम इंडिया के लिए नही कर पाए.

स्टुअर्ट बिन्नी ने भारत के लिए 6 टेस्ट मैचों में 194 रन और 3 विकेट चटकाए है. वही बिन्नी ने 14 वनडे मुकाबलों में वो 230 रन और 20 विकेट चटकाने में सफल हुए थे.

ALSO READ: IPL 2023: आकाश चोपड़ा ने की भविष्यवाणी, कहा आईपीएल नीलामी में इन 3 खिलाड़ियों पर लगेगी सबसे महंगी बोली, इस खिलाड़ी को मिलेगा सबसे ज्यादा पैसा