इन 5 खिलाड़ियों ने बतौर गेंदबाज करी क्रिकेट करियर की शुरुआत, बाद में बन गये क्रिकेट दुनिया के महान बल्लेबाज
इन 5 खिलाड़ियों ने बतौर गेंदबाज करी क्रिकेट करियर की शुरुआत, बाद में बन गये क्रिकेट दुनिया के महान बल्लेबाज

अनिश्चितता का खेल कहा जाने वाला Cricket के मैच कब पलट जाये, मैच के दौरान आखिरी गेंद तक हार और जीत की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती। कब बल्लेबाज गेंदबाज बनकर मैच पलट दे ये भी कहा नही जा सकता है. ऐसे में आज के इस आर्टिकल के जरिए आज हम आपको  क्रिकेट के इस खेल में ऐसे पांच खिलाड़ी के बारे में बताएँगे जिनके द्वारा बतौर गेंदबाज करियर की शुरुआत की गई और बाद में यह सफल बल्लेबाज बन सके आइए जानते हैं उन खिलाड़ियों के बारे में।

स्टीव स्मिथ

स्टीव स्मिथ के अपने करियर की शुरुआत नंबर 7-8 पर बल्लेबाजी करने वाले बतौर लेग स्पिनर की थी। स्मिथ के शुरुआती दौर में फैंस द्वारा उनकी तुलना शेन वार्न से की जाती थी। लेकिन 2013 में इंग्लैंड के विरुद्ध खेले एशेज के दौरान उनका कैरियर एक नए मोड़ पर आया। उनकी अपरंपरागत बल्लेबाजी तकनीकी द्वारा विरोधी टीम को भ्रमित किया गया, जिसके द्वारा ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए अद्भुत काम किया गया। अब तक अपने टेस्ट करियर के दौरान 73 मैचों में 62.84 की अद्भुत औसत और 26 शतकों की मदद से 7227 रन बनाने में कामयाब रहे हैं, वही वनडे के दौरान वह 42.96 की औसत और 86.89 की स्ट्राइक रेट से 4039 रन बनाने में कामयाब रहे थे।

कैमरोन वाइट

कैमरोन वाइट द्वारा भी अपने अन्तराष्ट्रीय करियर की शुरुआत बतौर लेग स्पिनर की गई थी। भारत के विरुद्ध वाइट द्वारा टेस्ट डेब्यू किया गया था और अपना विकेट सचिन तेंदुलकर के रूप में लिया था। लेकिन खराब फॉर्म के चलते 2008 के बाद उन्हें दोबारा टेस्ट टीम में नहीं चुना गया। ऑस्ट्रेलिया के इंग्लैंड दौरे पर वाइट द्वारा 2009 में नियमित बल्लेबाज के रूप में खुद को स्थापित किया गया था, और अपने करियर का पहला वनडे शतक साउथेम्पटन में लगाया था। अपने करियर के दौरान वाइट 33.96 की बल्लेबाजी औसत से 2072 रन और 12 विकेट बनाने में कामयाब रहे।

सनथ जयसूर्या

1989 में बतौर स्पिनर सनत जयसूर्या द्वारा वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया गया था जो कि मध्यक्रम के दौरान आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे। अपनी तूफानी बल्लेबाजी से जयसूर्य द्वारा पावरप्ले के दौरान तेजी से रन बनाने का ट्रेंड शुरू किया गया। जिसके बाद उन्हें कप्तानों द्वारा बल्लेबाज के रूप में देखा जाने लगा हालांकि अपनी फिरकी गेंदों से वह इस दौरान टीम के लिए आम भूमिका निभाते रहे। अपने करियर के दौरान जयसूर्या द्वारा 445 वनडे मैचों में 32.36 की औसत और 91.2 की स्ट्राइक रेट से 13430 रन बनाने के साथ साथ 323 विकेट भी लिए गए।

शोएब मलिक

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शोएब मलिक द्वारा हाल ही में अपने वनडे क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया गया है। मलिक द्वारा 20 वर्षों के अपने लंबे करियर के दौरान खुद को क्रिकेट के सबसे सफलतम मध्यक्रम बल्लेबाज के रूप में स्थापित किया गया। मलिक द्वारा अपने करियर की शुरुआत महज 17 वर्ष की उम्र में वेस्टइंडीज के बतौर ऑफ स्पिनर के रूप में की गई थी। मलिक अपनी गेंदबाजी से बड़े-बड़े बल्लेबाजों को परेशान करने में माहिर थे। लेकिन एक्शन में बदलाव के चलते वह धीरे-धीरे गेंदबाजी से दूर होते गए और बल्लेबाजी में अपने नए मुकाम हासिल करने में कामयाब रहे।

ALSO READ:सुरेश रैना की कप्तानी में डेब्यू कर चुके ये 5 दिग्गज खिलाड़ी, आज बन गए टीम इंडिया के बड़े नाम

शाहिद अफरीदी

16 वर्ष की उम्र में बतौर लेग स्पिनर शाहिद अफरीदी द्वारा अपने करियर की शुरुआत की गई थी। श्रीलंका के विरुद्ध मात्र 37 गेंदों पर शतक लगाने के बाद अफरीदी रातों-रात स्टार बन गए थे। हमेशा से ही आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाने वाले अफरीदी को अपने करियर की शुरुआत से ही ओपनिंग करने का मौका मिला था, लेकिन कुछ वर्षों बाद ही उन्हें निचले क्रम में ट्रांसफर किया जाने लगा। अपने करियर के दौरान अफरीदी द्वारा 117 की स्ट्राइक रेट से 8064 रन बनाने के साथ 395 विकेट भी हासिल किए गए।

Read Also:-5 ऐसे मौके जब दूसरों के खातिर दिग्गज खिलाड़ीयों ने दांव पर लगा दिया अपना करियर, लिस्ट में कोहली और गंभीर का भी नाम