"मोहम्मद नबी नहीं जिन्ना का नाम बदल दो वो एक नंबर का शराबी था, हमेशा नशे में डूबा रहता था" तालिबान ने पाकिस्तान को 2 टूक दिया जवाब
"मोहम्मद नबी नहीं जिन्ना का नाम बदल दो वो एक नंबर का शराबी था, हमेशा नशे में डूबा रहता था" तालिबान ने पाकिस्तान को 2 टूक दिया जवाब

Taliban Pakistan Relations : पाकिस्तान और तालिबान के बीच सभी चीजे नॉर्मल नहीं हैं। दोनों के बीच डूरंड लाइन को लेकर विवाद कायम है, जिसकी झलक चाहे अनचाहे व्यापार, बाहरी मुल्कों के साथ संबंध और क्रिकेट में भी कभी-कभी साफ तौर पर नजर आती है।हाल ही में क्रिकेट के बीच ये मुद्दा एक बार फिर चर्चा में आया।

दरअसल तालिबान के एक अधिकारी ने अफगानिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान मोहम्मद नबी के नाम बदले जाने की बात पर प्रतिक्रिया दी। बता दें पाकिस्तान के एक मौलाना ने मोहम्मद नबी को अपना नाम बदलने को कहा है। जानिए क्या है पूरा मामला…

अफगानिस्तान को हमेशा पाक से नुकसान

साउथ एशिया मीडिया रिसर्च इंस्टीट्यूट के ट्विटर हैंडल द्वारा शेयर किए गए एक वीडियो के अनुसार तालिबान के कमांडर जनरल मुजीब ने एक न्यूज चैनल पर डिबेट के दौरान कहा कि

“पाकिस्तान जानबूझकर सीमा पार से हमारे फलों के निर्यात में देरी करता है। शुक्र है कि हमें अब कराची या ग्वादर बंदरगाहों की जरूरत नहीं पड़ेगी। अफगानिस्तान के इस्लामिक अमीरात ने चाबहार बंदरगाह का उपयोग करने के लिए ईरान के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। पाकिस्तान हमेशा अफगानिस्तान को नुकसान पहुंचाता है, चाहे कोई भी सत्ता में हो”।

पाक मौलवी ने क्रिकेटर मुहम्मद नबी को नाम बदलने का दिया सलाह

आगे उन्होंने अपनी बातचीत में कहा कि एक पाकिस्तानी मौलवी ने कहा है कि

“हमें क्रिकेटर मुहम्मद नबी का नाम बदल देना चाहिए। उन्हें कायदे से आजम जिन्ना का नाम बदलना चाहिए, वो एक शराबी था को हमेशा नशे में डूबा रहता था। सिर्फ पैगंबर मोहम्मद ही कायद-ए-आज़म हैं। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद है जबकि वहां इस्लामिक कुछ भी नहीं है।”

Also Read : IND vs AUS: पहले टी20 में मिली हार के बाद इन 2 खिलाड़ियों का बाहर होना तय अब आईपीएल और संन्यास ही बचेगा आखिरी रास्ता

क्या है पाकिस्तान और तालिबान में सीमा विवाद

पाकिस्तान और तालिबान के बीच डूरंड लाइन पर काफी पुराना विवाद है। तालिबान अपनी स्थापना के समय से ही डूरंड लाइन को दोनों देश की बीच की सीमा नहीं मानता है। वहीं तालिबान का कहना है कि पाकिस्तान का खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान उसके हिस्से में है।

इसी के साथ ही तालिबान शुरूआत से ही पाकिस्तान पर सीमा के पास रहने वाले बलोच नागरिकों पर अत्याचार के आरोप लगाता रहता है। बता दें, तालिबान और पाकिस्तानी सेना के बीच सीमा विवाद को लेकर कई मुठभेड़ें भी हुई हैं। हाल ही में दोनों देश के बीच विवाद के कारण ही एशिया कप के दौरान भी दोनों देश के प्रशंसक स्टेडियम में तोड़ फोड़ करते नजर आए थे।

Also Read : IND vs AUS: भारतीय टीम के लगातार हार पर भड़के पूर्व कोच रवि शास्त्री, द्रविड़ को लगाई फटकार, कहा बूढ़े खिलाड़ियों को दे रहे बार-बार मौका