mohmmad rizwan trent boult

टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup) के पहले सेमीफाइनल मुकाबले में जब न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के बीच मुकाबला हुआ तो इस मुकाबले में एक ऐसा नजारा देखने को मिला जिसमें मैदान पर एक बहुत बड़ा बवाल शुरू कर दिया. आज हम आपको आईसीसी के उस नियम के बारे में बताएंगे, जिसका इस्तेमाल सेमीफाइनल के पहले मुकाबले में किया गया.

दरअसल इस मुकाबले में जब ट्रेंट बोल्ट गेंदबाज़ी करने आए तो उस दौरान मोहम्मद रिजवान का विकेट सबसे ज्यादा चर्चा का विषय रहा, जिस वजह से मैदान पर बहस होने लगी थी.

इस वजह से मचा बवाल

पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के बीच टी20 वर्ल्ड कप (T-20 World Cup) के पहले सेमीफाइनल मुकाबले में जब मोहम्मद रिजवान शानदार बल्लेबाजी कर रहे थे तो उस दौरान 17वें ओवर में ट्रेट बोल्ट की फुल टॉस गेंद पर मोहम्मद रिजवान में मिसटाइम शॉर्ट खेला जिसे कैच कर लिया गया.

वहीं कैच के अलावा न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों ने रिजवान को रन आउट भी करवा दिया, क्योंकि उन्हें लग रहा था कि गेंद नो बॉल भी हो सकती है. हालांकि बाद में अंपायर ने नो बॉल गेंद चेक किया तो यह सही गेंद निकली और रिजवान को कैच आउट करार दे दिया गया. हालांकि पाकिस्तान ने टी20 वर्ल्ड कप (T-20 World Cup) के फाइनल में जगह बना ली है.

ये कहता है नियम

न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के बीच टी-20 वर्ल्ड कप (T-20 World Cup) के सेमीफाइनल में हुए मुकाबले में मोहम्मद रिजवान को लेकर अब यह बात कही जा रही है कि अगर यह गेंद नो बॉल होती तो क्या मोहम्मद रिजवान रन आउट हो जाते हैं.

इसका जवाब देते हुए एमसीसी ने ट्वीट किया है और बताया है कि क्रिकेट के नियमों के मुताबिक अगर गेंद नो बॉल हो जाती तो रिजवान क्रीज पर बने रहते क्योंकि जब उनका कैच हुआ था तब बॉल पहले से ही डेड हो गई थी और गेम से बाहर हो गई थी, इसलिए नॉन स्ट्राइकर एंड पर थ्रो से कोई फायदा नहीं होगा.

ALSO READ: ‘केएल राहुल केवल कमजोर टीमों को कुचलता है’ भारत की हार के बाद भड़के फैंस, सोशल मीडिया को लगाई फटकार

फाइनल में पहुंचा पाकिस्तान

टी-20 वर्ल्ड कप (T-20 World Cup) के सेमीफाइनल में ट्रेट बोल्ट की गेंद पर जब मोहम्मद रिजवान कैच आउट हुए तब अंपायर ने नो बॉल चेक करने के लिए थर्ड अंपायर की मदद ली जिसमें यह पता चला कि यह नो बॉल नहीं है.

अगर आँनफील्ड अंपायर सीधे नो बॉल का इशारा कर देते तो रिजवान रन आउट हो सकते थे, क्योंकि फिर गेंद कैच से पहले डेड नहीं मानी जाती और खेल में रहती.

एमसीसी ने अपने ट्विटर हैंडल से इस बात को भी साझा किया कि उन्होंने नो बॉल को डेड करार देने का जो नियम है वह थर्ड अंपायर के निर्णय पर लागू नहीं होता है.

हालांकि न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 वर्ल्ड कप (T-20 World Cup) के सेमीफाइनल मुकाबले में मोहम्मद रिजवान और बाबर आजम की जोड़ी ने पाकिस्तान को फाइनल तक पहुंचा दिया.

ALSO READ:Sorry, हम नहीं चाहते इंडिया सेमीफाइनल में जीते, हमें विराट से डर लगता है’