Sarfaraz Khan on Run Out
सरफराज खान ने रन आउट पर तोड़ी चुप्पी

Sarfaraz Khan on Run Out: छह साल की उम्र में अपनी क्रिकेट यात्रा की शुरुआत से ही सरफराज खान (Sarfaraz Khan) जो चाहते थे, वह अपने पिता के सामने एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी बनना था. इंग्लैंड (IND vs ENG) के खिलाफ तीसरे मैच से पहले पूर्व कप्तान अनिल कुंबले (Anil Kumble) द्वारा टेस्ट कैप सौंपी गई और उनके पिता नौशाद (Naushad Khan) आंसुओं से देख रहे थे. उन्होंने अर्द्धशतक के साथ अपनी योग्यता साबित की, जो एक बड़ी पारी हो सकती थी अगर रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) के साथ मिक्स अप के बाद नॉन-स्ट्राइकर छोर पर रन आउट न होते.

Sarfaraz Khan ने इन्हें माना रनआउट का जिम्मेदार

सरफराज (Sarfaraz Khan on Ravindra Jadeja) ने शुरुआती घबराहट को दमदार स्वीप से दूर कर दिया, लेकिन अपने आउट होने को – नॉन-स्ट्राइकर एंड पर रन आउट – “गलत तालमेल” का मामला करार दिया.

सरफराज खान ने कहा,

“यह खेल का हिस्सा है. क्रिकेट में कभी कभी गलत कॉल होता है. कभी-कभी रन आउट होता है, कभी-कभी आपको रन मिल जाते हैं. मैंने लंच के समय जडेजा से बात की और उनसे खेलते समय मुझसे बात करने का अनुरोध किया. मुझे खेलते समय बात करना पसंद है. यह मेरा पहला मौका था.”

सरफराज खान (Sarfaraz Khan on Test Debut) ने कहा,

“मैंने उससे कहा कि जब मैं बल्लेबाजी करने जाऊं तो खेलते समय मुझसे बात करते रहना. जब मैं बल्लेबाजी कर रहा था तो वह बात करता रहा और मेरा काफी समर्थन किया.”

Sarfaraz Khan ने बताया क्या है अंतरराष्ट्रीय और घरेलू क्रिकेट में अंतर

किसी भी खिलाड़ी के लिए यह आसान नहीं है कि वह घरेलू क्रिकेट में वर्षों तक संघर्ष करता रहे, साल दर साल रन बनाता रहे और राष्ट्रीय टीम में मौका न मिले. जब आखिर उन्हें यह मिल गया, तो सरफराज ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का स्वाद लगभग घरेलू जैसा ही था, लेकिन कुछ स्पष्ट अंतरों के साथ.

सरफराज खान कहा,

“शुरुआत में मुझे अजीब लग रहा था क्योंकि काफी समय हो गया था. लेकिन बाद में मुझे लगा कि मैंने यह सब कर लिया है, एक बार जब मैं अपने क्षेत्र में आ गया तो मुझे यह मुश्किल नहीं लगा.”

सरफराज खान ने आगे कहा,

“अंतर यह है कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट में आपके पास भीड़ नहीं होती है और आप राष्ट्रीय खिलाड़ियों से ज्यादा नहीं मिलते हैं.”

ALSO READ: Sarfaraz Khan और उनके भाई मुशीर खान क्यों पहनते हैं 97 नंबर की जर्सी, उनके पिता नौशाद खान ने बताई भावुक कर देने वाली वजह