'प्लेयर ऑफ द सीरीज' बनने के बाद सरफराज खान ने बताया, शतक के मारने के बाद क्यों लगे फूट-फूट कर रोने
'प्लेयर ऑफ द सीरीज' बनने के बाद सरफराज खान ने बताया, शतक के मारने के बाद क्यों लगे फूट-फूट कर रोने

Sarfaraz Khan wins player of the series: रणजी ट्रॉफी के फाइनल मैच में सरफराज खान ने मध्य प्रदेश के खिलाफ अपनी टीम मुंबई की तरफ से पहली पारी में 242 गेंद में 134 रन और दूसरी पारी में 48 गेंद पर 45 रन बनाए हैं। हालांकि इसके बाद भी मुंबई की 6 विकेट से हार का समाना करना है। लेकिन मुंबई के फाइनल तक पहुंचने की खास खिलाड़ी सरफराज खान ने पूरे सीज़न अच्छा प्रदर्शन किया है। सरफराज खान ने कुल 6 मैच में 982 रन बना दिए।

जिसके बाद उन्हें ‘प्लेयर ऑफ द सीरीज’ चुना गया हैं। वहीं सरफराज खान रणजी के इतिहास में आज तक लगातार दो सीजन 900 रन से ज्यादा बनाने वाले तीसरे खिलाड़ी बन गए हैं। रणजी 2019-20 में भी 928 रन बनाए थे। जिसके बाद सरफराज खान ने इसका पूरा क्रेडिट अपने पिता नौशाद खान को दिया है।

सरफराज खान ने पिता की तरफ इशारा करके उन्हें दिया खिताब का क्रेडिट

सरफराज खान ने मुंबई की हार के बाद प्लेयर ऑफ द सीरीज खिताब और एक लाख रूपए का चेक हासिल किया। जिसके बाद खिलाड़ी में इसका क्रेडिट मैच देखने आय अपने पिता नौशाद खान को दिया हैं। सरफराज खान ने कहा कि इसका क्रेडिट उनके पिता को जाता है।

Also Read : IND vs IRE: ‘घोड़े को नहीं मिल रहा घास, गधे खा रहे च्यवनप्राश’, इस खिलाड़ी को पांड्या ने प्लेइंग XI में नहीं दिया मौका, भड़के फैंस

सरफराज खान ने कहा कि,

“इसका सारा श्रेय मेरे पिताजी को जाता है, जो वहां खड़े हैं। मैं मैच में अपना बेस्ट देने की कोशिश कर रहा था। मैं चाहता था कि ज्यादा से ज्यादा देर तक क्रीज पर रूककर रन बना संकू। मैंने जीतने हो सका उतने मैच मैच खेले है। मैं यहां तक अपने पिता की बदौलत ही पहुंचा हूं। उस समय जब हम कुछ नहीं थे, तब मैं अपने पिता के साथ ट्रेन से जाया करता था”।

फाइनल में शतक बनाने का सपना देखा था जिसे पूरा किया

सरफराज खान ने खटखटाया नहीं तोड़ा टीम इंडिया का दरवाजा, इस देश के खिलाफ सीरीज में पक्की हुई भारतीय टीम में जगह

सरफराज खान ने आगे अपनी बातचीत में बताया कि जब से उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया था। तब से वो चाहते थे कि फाइनल में शतक बनाए। उन्होंने कहा कि,

“जब मैंने क्रिकेट खेलना शुरू किया था। तब ही मैंने मुंबई के लिए शतकीय पारी खेलने का सपना संजोया। जो अब पूरा हो गया है। इसके बाद ही मैंने रणजी ट्रॉफी फाइनल में शतक जड़ने का सपना देखा था। और आज जब टीम को इसकी जरूरत थी तब मैंने फाइनल में भी शतकीय पारी खेली। अपने पिता के द्वारा किए गए कठिन परिश्रम को याद करके मैं शतक जड़ने के बाद काफी इमोशनल हो गया था और मेरे आंखों में आंसू आ गए थे”।

Also Read : ICC T20 WORLD CUP 2022 से कटा रविंद्र जडेजा का पत्ता! जडेजा के सबसे बड़े दुश्मन ने ही किया बड़ा दावा