रोहित शर्मा के बाद इस खिलाड़ी का टीम इंडिया का कप्तान बनना तय, पहली बार मिलेगा परमानेंट कप्तान
रोहित शर्मा के बाद इस खिलाड़ी का टीम इंडिया का कप्तान बनना तय, पहली बार मिलेगा परमानेंट कप्तान

इन दिनों क्रिकेट काफी बिज़ी हो चुका है. टीमों को एक के बाद एक सीरीज़ के लिए तैयार रहना पड़ता है. मैच तो मैच कई बार पूरी सीरीज में ही सिर्फ 2 या 3 दिना का गैप होता है. ऐसे में टीम के खिलाड़ियों के लिए लगातार खेलना काफी मुश्किल हो जाता है. भरातीय टीम (INDIAN CRICKET TEAM) के कप्तान रोहित शर्मा (ROHIT SHARMA) ने सीरीज़ों के शेड्यूल को लेकर बड़ा बयान दिया है. उनका मानना है कि त्रिकोणीय चतुर्भुज सीरीज़ों से टीमों को काफी आराम मिल सकता है.

द्विपक्षीय सीरीज़ें खराब कर रही हैं सारा खेल

Rohit Sharma TEAM INDIA

रोहित शर्मा(ROHIT SHARMA) से जब द्विपक्षीय सीरीज़ों को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा,

‘मुझे लगता है कि यह महत्वपूर्ण है, लेकिन इसे बेहतर तरीके से प्रबंधित किया जा सकता है. दुनिया भर में और अधिक टी20 लीगों के आगमन और तेजी से व्यस्त कैलेंडर के साथ.’

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा,

‘एक समय था, जब हम बच्चे थे, मैं बड़ा हुआ, मैंने बहुत सी त्रिकोणीय श्रृंखला या चतुर्भुज श्रृंखला देखी, लेकिन वह पूरी तरह से बंद हो गई है. मुझे लगता है कि यह आगे का रास्ता हो सकता है ताकि टीम के पास ठीक होने और वापस आने के लिए पर्याप्त समय हो. ये सभी उच्च दबाव वाले खेल हैं जो हम खेलते हैं, जब भी आप अपने देश का प्रतिनिधित्व करते हैं, तो आप बहुत तीव्रता के साथ बाहर आना चाहते हैं.’

ALSO READ: ‘मेरा आदमी आग उगल रहा है’ दिनेश कार्तिक की एक्स वाइफ ने मुरली विजय के लिए लिखा प्यार भरा पोस्ट

करें थोड़ा बेहतर इंतज़ाम

HITMAN ROHIT SHARMA

 

रोहित शर्मा ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा,

‘आप उस पर समझौता नहीं करना चाहते हैं, इसलिए निश्चित रूप से, मैं समझता हूं कि जब हम द्विपक्षीय श्रृंखला खेलते हैं, तो शेड्यूलिंग, प्रत्येक खेल के बीच के समय को न केवल भारत के दृष्टिकोण से, बल्कि सभी बोर्डों से थोड़ा बेहतर तरीके से प्रबंधित किया जा सकता है.’

अपनी बात में उन्होंने आगे कहा,

‘अगर ऐसा होता है, तो आप खिलाड़ियों की सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता को बाहर आते और हर खेल का प्रतिनिधित्व करते हुए देखते हैं. जब आप बैक-टू-बैक गेम खेलते हैं, तो आपको खिलाड़ियों की देखभाल करनी होती है और कार्यभार को समझना होता है. ईमानदारी से बाहरी दुनिया से लोग सभी सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को खेलते देखना चाहते हैं और अगर उन चीजों को अच्छी तरह से प्रबंधित किया जाता है, तो क्रिकेट की गुणवत्ता से समझौता नहीं किया जाएगा.’

ALSO READ: बीसीसीआई से भिड़ी आईसीसी, ICC के इस कदम से BCCI को हो सकता है करोड़ो का नुकसान