रिकी पोंटिंग

भारतीय प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स (DELHI CAPITALS) के कोच रिकी पोंटिंग (RICKY PONTING) ने एक नई टीम के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन किया है। जिसके बाद कोच रिकी पोंटिंग आईपीएल में अब दिल्ली कैपिटल्स के साथ बने रहेंगे या नहीं? जानिए किस टीम के साथ साइन किया रिकी पोंटिंग ने कॉन्ट्रैक्ट अब आगे आईपीएल में आयेगे नजर! आईपीएल के खतम के होने के बाद पूर्व ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ी रिकी पोंटिंग आईने वतन वापस लौटे। जहां पर उन्होंने बिग बैश लीग की एक टीम के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन किया है। जानिए क्या है पूरा मसला…

बिग बैश लीग में किया तीन साल का करार

 

रिकी पोंटिंग ने बिग बैश लीग में तीन साल का करार करार किया है। इंडियन प्रीमियर लीग के समाप्त होने के बाद रिकी पोंटिंग वापस ऑस्ट्रेलिया लौटे। जहां पर उन्होंने बिग बैश लीग की टीम होबार्ट हरिकेन्स ( Hobart Hurricanes) के साथ तीन साल का कॉन्टैक्ट साइन किया है। रिकी पोंटिंग ने इसके लिए इस शर्त पर साइन किया है कि वो इसे फुल टाइम नहीं बल्कि पार्ट टाइम बेस पर करेगे। वहीं दिलचस्प बात ये है कि ऑस्ट्रेलियन समर के दौरान रिकी पोंटिंग चैनल सेवन के लिए कॉमेंट्री करते हुए भी नजर आयेंगे।

Also Read : IPL Media Rights: टीवी पर मैच देखने के लिए लगेगी 35 से 40 हजार करोड़ बोली, एमेजन से लेकर सोनी इन 5 कम्पनियां लेगी हिस्सा

दिल्ली कैपिटल्स के बना रहेगा साथ ?

इंडियन प्रीमियर लीग में दिल्ली कैपिटल्स की सफलता का श्रेय रिकी पोंटिंग को कोचिंग को भी जाता हैं। पिछले तीन सालों में टीम में काफी योगदान दिया है। जिसके बाद बिग बैश लीग की होबार्ट हरिकेन्स ( Hobart Hurricanes)के साथ तीन साल का करार करने के बाद भी रिकी पोंटिंग दिल्ली फ्रेंचाइजी के साथ जुड़े रहेंगे। रिकी पोंटिंग टीम में हेड ऑफ स्ट्रेटजी के तौर पर शामिल हुए हैं। यानी अब वो टीम के लिए रणनीति बनाते नजर आयेंगे। इसी के साथ ही रिकी पोंटिंग बिग बैश के शुरुआती दो सत्र के दौरान हरिकेंस टीम के लिए कुल आठ मैच खेल चुके हैं। जो प्रोफेशनल क्रिकेट में उनके आखिरी दो सीजन थे।

याद दिला दे, रिकी पोंटिंग ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट के एक काफी बेहतरीन बल्लेबाज रह चुके हैं। जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में काफी प्रभावशाली प्रदर्शन किया है। उन्होंने 168 टेस्ट मैच में 13378 रन है। वहीं खिलाड़ी के नाम 41 शतक और 6 दोहरे शतक भी हैं। रिकी पोंटिंग जब मात्र 33 वर्ष और 163 दिनों के थे, तब ही टेस्ट क्रिकेट में 10000 रन बनाने का करिश्मा कर लिया था।

Also Read : अंतराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए खतरा बना IPL, अब खुद ICC ने दी चेतावनी, BCCI से किया यह आग्रह