indian captain rohit sharma and ravichandran ashwin

भारत और इंग्लैंड (India vs England) के बीच 5 मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा मुकाबला राजकोट में खेला जा रहा है. टीम इंडिया (Team India) को मैच के दूसरे दिन एक बहुत बड़ा झटका लगा. स्टार स्पिनर आर अश्विन (Ravichandran Ashwin) को निजी कारणों की वजह से मैच को बीच में छोड़कर घर लौटना पड़ा.

अचानक से बीच में मैच से नाम वापस लेने के बाद अब कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की मुश्किलें बढ़ गई हैं. सवाल यही है कि क्या भारत 10 खिलाड़ियों के साथ आगे खेलेगा या फिर उसे रिप्लेसमेंट मिलेगा.

इस वजह से मैच के बीच घर लौटे Ravichandran Ashwin

राजकोट टेस्ट मैच में भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी थी. पहले दिन के खेल में खराब शुरुआत के बाद टीम को उन्होंने अपने दमदार शतक से संभाला. ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा ने दूसरी छोर पर उनका साथ निभाते हुए 200 रन की साझेदारी कर भारत की वापसी कराई.

पहली पारी में इन दोनों के शतक के अलावा डेब्यू करने वाले सरफराज खान ने अर्धशतक जमाया. भारतीय टीम ने 445 रन का स्कोर खड़ा किया. दूसरे दिन इंग्लैंड ने 2 विकेट पर 207 रन बनाए थे.

क्या कोई और खिलाड़ी ले सकता है Ravichandran Ashwin की जगह?

भारतीय टीम को दूसरे दिन के खेल में आर अश्विन के रूप में बड़ा झटका लगा. अब वह आगे इस मुकाबले में टीम का हिस्सा नहीं होंगे. ऐसे में सवाल यही है कि क्या उनकी जगह पर किसी खिलाड़ी को उतारने का मौका मिलेगा. अगर गेंदबाज उतरा तो उसे गेंदबाजी करने की अनुमति होगी. तो जान लीजिए क्या कहता है इसे लेकर आईसीसी का नियम.

नियम के मुताबिक अश्विन के रिप्‍लेसमेंट के तौर पर प्लेइंग इलेवन में किसी खिलाड़ी को शामिल करने के लिए इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स और टीम मैनेजमेंट की अनुमति चाहिए होगी. अक्षर पटेल टीम लिस्ट में 12वें जबकि केएस भरत 13वें खिलाड़ी हैं. इन दोनों में कप्तान किसी को भी अश्विन की जगह मौका दे सकते हैं.

Ravichandran Ashwin की जगह किसी को शामिल करने के लिए लेनी पड़ेगी बेन स्टोक्स की इजाजत

एमसीसी के नियम 1.2.2 के अनुसार विरोधी टीम के कप्‍तान की अनुमति के बिना दूसरी टीम अपने प्‍लेइंग इलेवन में बीच मैच के दौरान किसी खिलाड़ी की जगह पर किसी और को शामिल नहीं कर सकती.

अश्विन (Ravichandran Ashwin) की जगह फील्डिंग करने के लिए सब्स्टीट्यूट को रोहित शर्मा जरूर उतार सकते हैं, लेकिन बिना स्टोक्स के इजाजत के वह किसी को अश्विन (Ravichandran Ashwin) की जगह प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं कर पाएंगे.

मतलब टीम इंडिया 10 खिलाड़ी और एक सब्स्टीट्यूट के साथ मैदान पर उतरेगी. आईसीसी की नियम कहता है कि सब्स्टीट्यूट खिलाड़ी न तो बैटिंग कर सकता है और टीम के लिए गेंदबाजी में योगदान दे पाएगा. वह सिर्फ फील्डिंग ही कर सकता है.

ALSO READ: Cheteshwar Pujara ने रणजी ट्रॉफी में जड़ा तीसरा शतक, 105 गेंदों में ठोक डाले 108 रन, अब टीम इंडिया में वापसी है तय!