भारत के लगातार हार के बाद पूर्व कोच रवि शास्त्री को आई महेंद्र सिंह धोनी की याद
भारत के लगातार हार के बाद पूर्व कोच रवि शास्त्री को आई महेंद्र सिंह धोनी की याद

भारतीय टीम इन दिनों ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 टी20 मैचों की सीरीज़ खेल रही है. इस सीरीज़ के पहले मैच में टीम इंडिया को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है. इस मैच में भारतीय की तरफ से खराब गेंदबाज़ी के अलावा खराब कप्तानी भी देखने को मिली.

भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलियाई कैमरन ग्रीन बल्लेबाज के एलबीडब्लयू के लिए डीआरएस नहीं लिया. इस मौके को छोड़ने के बाद कैमरन ग्रीन ने 30 गेंदों पर 61 रनों की तूफानी पारी खेली थी. इस बात पर पूर्व कोच रवि शास्त्री (RAVI SHASTRI) ने महेंद्र सिंह धोनी (MS DHONI) को क्या याद किया.

पांचवें ओवर में हुई थी घटना

बता दें, ये घटना दूसरी पारी के पांचवे ओवर की है. पांचवा ओवर स्पिनर युजवेंद्र चहल (YUZVENDRA CHAHAL) करा रहे थे. उनकी एक बॉल सीधी कैमरन ग्रीन के पैड पर जा लगी, लेकिन इस पर किसी ने अपनी नहीं की और जब अगले ओवर रिप्ले देखा गया तो पता चला कि गेंद स्टंप्स को हिट कर रही थी.

इस मामले में कप्तान रोहित शर्मा (ROHIT SHARMA) से लेकर किसी ने भी डीआरएस की मांग नहीं की. इस बात पर कमेंट्री बॉक्स में मौजूद रवि शास्त्री (RAVI SHASTRI) और सुनील गावस्कर ने टीम की आलोचना की और धोनी को याद किया.

गेंद स्टंप्स से टकरा रही थी

इस बात पर कमेंट्री में मौजूद सुनील गावस्कर ने कहा,

“ग्रीन सीधी गेंद पर वह स्वीप करने गए. भारत ने डीआरएस का इस्तेमाल नहीं किया. गेंद स्टंप्स से टकरा रही थी.”

गावस्कर की इस बात का जवाब देते हुए रवि शास्त्री ने कहा,

“यह हैरान करने वाला है क्योंकि भारतीय खिलाड़ियों को पता था कि ग्रीन क्रॉस खेलने गए. मैं सोच रहा हूं कि भारतीय खिलाड़ियों ने अपील क्यों नहीं की. क्या ऊंचाई की वजह से या उन्हें लगा गेंद विकेट को हिट नहीं कर रही होगी?”

ALSO READ: IND vs AUS: “कुछ तो गड़बड़ी चल रही है” दीपक चाहर की जगह उमेश यादव को मौका देने पर इस दिग्गज ने उठाया टीम चयन पर सवाल

महेंद्र सिंह धोनी को किया याद

रवि शास्त्री ने इस घटना के बाद महेंद्र सिंह धोनी को याद करते हुए कहा,

“विकेटकीपर की भूमिका महत्वपूर्ण है. इसी जगह महेंद्र सिंह धोनी शानदार थे. दरअसल, डीआरस यानी डिसीजन रिव्यू सिस्टम को धोनी रिव्यू सिस्टम भी कहा जाने लगा था, क्योंकि डीआरएस लेने के धोनी के ज्यादातर फैसले सही साबित होते थे. डीआरएस में धोनी का सक्सेस रेट शानदार था.”

ALSO READ: ‘आजकल लोग नकारा हो गए हैं’, भुवनेश्वर कुमार की पत्नी नूपुर नागर ने आलोचकों के मुंह पर जड़ा करारा तमाचा