SACHIN TENDULKAR AND VIRENDRA SEHWAG

भारत में क्रिकेट को धर्म माना जाता है. यहाँ लगभग हर तीसरा बच्चा क्रिकेट खेलता है, लेकिन इनमें से कुछ ही खिलाड़ी होते हैं, जिनको भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलता है. भारत में धर्म के साथ राजनीति भी होती है, जिसके वजह से कुछ खिलाड़ियों का कैरियर समाप्त हो जाता है.

आज के इस लेख में हम एक ऐसे ही धुरंधर सलामी बल्लेबाज की बात करने जा रहे हैं, जिसको टीम का अगला सचिन तेंदुलकर माना जाता था, लेकिन आज उन्हें टीम इंडिया से बाहर किया गया है.

पृथ्वी शॉ को कहा जाता था सचिन और सहवाग का मिश्रण

पृथ्वी शाॅ का जन्म मुंबई के ठाणे में हुआ था. वह तीन साल के छोटे उम्र से ही क्रिकेट खेल रहे हैं. पृथ्वी शाॅ ने सबसे कम उम्र में दिलीप ट्राॅफी में शतक लगाने का रिकॉर्ड बनाया था. उन्होंने सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा था. पृथ्वी शाॅ ने हैरिस शिल्ड मैच खेलने के दौरान शॉ ने 330 गेंदों ने 556 रनों बनाने का रिकॉर्ड बनाया था.

पृथ्वी शाॅ ने रणजी ट्रॉफी और दिलीप ट्रॉफी में डेब्यू कर शतक बनाया था. इसके बाद से उनकी तुलना भारत के महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर से की जाने लगी.

डेब्यू मैच ही बन गया अंतिम मैच

घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने का इनाम पृथ्वी शाॅ को मिला. उनको श्रीलंका के खिलाफ भारतीय टीम में चुना गया और उन्होंने 25 जुलाई 2021 को इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. अभी तक पृथ्वी शाॅ ने भारत के तरफ से 5 टेस्ट, 6 वनडे और एक टी20 मैच खेला है.

इंटरनेशनल क्रिकेट के दबाव को पृथ्वी महसूस नही कर पाए और जल्द ही उनको टीम से बाहर कर दिया गया. पृथ्वी शाॅ ने आखिरी टेस्ट मैच साल 2020 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर खेला था, जबकि 2021 में वह आखिरी बार वनडे मैच में दिखे थे.

ALSO READ: मुंबई इंडियंस को मिल गया है दूसरा सूर्यकुमार, 1.7 करोड़ के इस खिलाड़ी ने लगाई चौके छक्के की झड़ी, 164 के स्ट्राइक रेट से बना रहा रन

घरेलू क्रिकेट में बरपा रहे हैं कहर

टीम इंडिया से बाहर जाने के बाद पृथ्वी शॉ ने घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन अब तक उन्हें टीम इण्डिया में वापसी करने का मौका नही मिला है. सैय्यद मुश्ताक अली ट्राॅफी में उनके बल्ले से एक शतक भी निकला था. क्रिकेट में सचिन तेंदुलकर के क्लास और वीरेंद्र सहवाग के आक्रामकता से लैश पृथ्वी शॉ पिछले 16 महीने से वापसी का इन्तजार कर रहे हैं.

निराश हैं पृथ्वी शाॅ

इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी पर पृथ्वी शाॅ ने कहा कि,

‘मैं निराश हो गया था. मैं रन बना रहा हूं, काफी मेहनत कर रहा हूं, लेकिन मौका नहीं मिल रहा है. लेकिन, ठीक है. जब उन्हें [राष्ट्रीय चयनकर्ता] लगेगा कि मैं तैयार हूं, तो वे मुझे खिलाएंगे. मुझे जो भी अवसर मिलेंगे, चाहे वह भारत ‘ए’ के लिए हो या अन्य टीमों के लिए, मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूं और अपने फिटनेस स्तर को बनाए रखूं.’

ALSO READ: मुंबई इंडियंस को मिल गया है दूसरा सूर्यकुमार, 1.7 करोड़ के इस खिलाड़ी ने लगाई चौके छक्के की झड़ी, 164 के स्ट्राइक रेट से बना रहा रन