मुलायम सिंह यादव अपने पीछे छोड़ गए हैं इतनी संपत्ति, आखिर क्यों नेताजी को लेना पड़ा था बेटे अखिलेश से कर्ज
मुलायम सिंह यादव अपने पीछे छोड़ गए हैं इतनी संपत्ति, आखिर क्यों नेताजी को लेना पड़ा था बेटे अखिलेश से कर्ज

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने 82 साल की उम्र में सोमवार को दुनिया को अलविदा कह दिया। नेताजी को स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें 2020 से थी। उन्हें पिछले साल कोरोना भी हुआ था। 2 अक्टूबर को उनकी तबीयत ज्यादा खराब होने की वजह से उन्हें गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

नेताजी को यूरिन इंफेक्शन और ब्लड प्रेशर की समस्या थी। जिसकी वजह से उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था उनकी तबीयत लगातार नाजुक बनी हुई थी। आखिर उन्होंने सोमवार सुबह 8:16 पर आखिरी सांस ली और उनका निधन हो गया।

तीन बार रहे यूपी के सीएम

बता दें कि नेताजी जमीन से जुड़े हुए थे ।वह 8 बार विधायक 7 बार सांसद और तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और एक बार रक्षा मंत्री भी रह चुके थे। नेताजी को चाहने वाले करोड़ों की संख्या में लोग हैं। उनके पार्थिव शरीर को सोमवार को गुरुग्राम से उनके पैतृक गांव सैफई ले जाया गया। जहां आज उनका अंतिम संस्कार कर दिया जाएगा।

करोड़ों की संपत्ति के मालिक थे नेताजी

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव अपने पीछे अपने परिवार के लिए बड़ी राजनीतिक विरासत छोड़कर गए हैं। करोड़ों की संपत्ति के मालिक होने के बावजूद भी उनके ऊपर 2,13 30,000 का कर्ज था। लोग मुलायम सिंह को प्यार से नेता जी कहते थे।

अखिलेश यादव से लिए लिया था कर्ज

बता दें कि मुलायम सिंह यादव का जन्म 22 नवंबर 1939 को इटावा जिले के सैफई गांव में हुआ था। उनकी शिक्षा-दीक्षा सैफई इटावा और आगरा में हुई। वह एक अध्यापक थे लेकिन उसके बाद उन्होंने राजनीति में कदम रखा और साल 1992 में समाजवादी पार्टी की स्थापना की। उसके बाद वह राजनीति में चमकते नेता बने।

उन्हे लोग नेताजी नाम से पुकारते थे। उनके पास करोड़ों की संपत्ति होने के बावजूद उन्होंने अखिलेश यादव से  करोड़ों रुपए  लिए थे। तीन बार मुख्यमंत्री बन चुके थे और 2019 में लोकसभा चुनाव के दौरान दाखिल हलफनामे में उन्होंने खुलासा किया था कि उनके पास करोड़ों की संपत्ति है।

ये भी पढ़ें-टी20 विश्व कप में जगह तो मिल गई है लेकिन एक मैच में भी खेलने का मौका नहीं देंगे कप्तान रोहित शर्मा