"महेंद्र सिंह धोनी ने बर्बाद किया दिनेश कार्तिक का करियर" सबा करीम ने इशारो-इशारों में बताई पूरी सच्चाई
"महेंद्र सिंह धोनी ने बर्बाद किया दिनेश कार्तिक का करियर" सबा करीम ने इशारो-इशारों में बताई पूरी सच्चाई

इन दिनों भारतीय टीम में लगभग अपनी जगह पक्की कर चुके दिनेश कार्तिक (DINESH KARTIK) 37 साल के हो चुके हैं और इस उम्र में आकर उन्होंने टीम में अपनी एक जगह तय कर पाई है. दिनेश कार्तिक के साथ डेब्यू करने वाले सभी क्रिकेटर संन्यास ले चुके हैं. उस बैच में दिनेश कार्तिक (DINESH KARTIK) ही इकलौते क्रिकेट बचे हुए हैं.

बता दें, दिनेश कार्तिक ने साल 2004 में इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा था. दिनेश कार्तिक इन दिनों टीम इंडिया के लिए शानदार परफॉर्म कर रहे हैं. आने वाले टी20 वर्ल्ड कप 2022 में भी दिनेश कार्तिक को शामिल किए जाने की पूरी उम्मीद की जा रही है.

क्या महेंद्र सिंह धोनी ने बर्बाद किया दिनेश कार्तिक का करियर

MS DHONI

पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS DHONI) ने दिनेश कार्तिक के बाद इंडिया टीम में कदम रखा था. धोनी के जैसे ही कार्तिक भी एक विकेटकीपर बल्लेबाज़ थे. ऐसा कहा जाता है कि दिनेश कार्तिक (DINESH KARTIK) को टीम में काफी मौके मिले और वो उन्हें भुना नहीं पाए और टीम से बाहर कर दिए गए.

वहीं, कुछ क्रिकेटर एक्सर्ट्स का मानना है कि दिनेश कार्तिक (DINESH KARTIK) को पिछले कप्तानों के चलते टीम में कभी मौका नहीं मिल पाया. वहीं, पूर्व भारतीय क्रिकेटर सबा करीम (SABA KARIM) ने इस बात को लेकर खुलासा किया.

ALSO READ: ZIM vs IND: इन 3 खिलाड़ियों के साथ जिम्बाब्वे दौरे पर हुई नाइंसाफी, टीम चयन में व्याप्त राजनीति की वजह से नहीं मिला मौका

इशारों-इशारों में बता दी सच्चाई

DINESH KARTHIK

सबा करीम(SABA KARIM) ने इंडिया न्यूज़ से बातचीत करते हुए इशारों-इशारों में बात करते हुए कहा,

“जब दिनेश कार्तिक कुछ साल पहले बल्लेबाजी क्रम में बल्लेबाजी करते थे, तो हम सभी सोच रहे थे कि वो क्षमता के बावजूद प्रदर्शन क्यों नहीं कर पा रहे थे. वो तब असफल हो रहे थे क्योंकि उनकी भूमिका के बारे में कोई स्पष्टता नहीं थी.”

उन्होंने आगे बात करते हुए कहा,

“उसे पता नहीं था कि उसे कब बड़े शॉट खेलने हैं, या कब उसे सिंगल लेना है. लेकिन अब उसकी भूमिका काफी स्पष्ट है और इसीलिए उसके प्रदर्शन में काफी सुधार हुआ है. प्रबंधन ने उन्हें ये अलग भूमिका सौंपी है और वो लगातार उन्हें ऐसी स्थितियों में भेज रहे हैं. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वो किस स्थिति में बल्लेबाजी कर रहे हैं, उनका काम केवल तीन या चार ओवर खेलना है. उन्होंने अपनी तैयारी उसी के अनुसार की है. इसीलिए वो सफल रहे हैं.

ALSO READ: टीम में क्यों आज़माई जा रही है अलग-अलग ओपनिंग जोड़ियां, रोहित शर्मा ने तीसरे मैच से पहले किया बड़ा खुलासा