under-the-captaincy-of
under-the-captaincy-of

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी संभालने वाले Mahendra Singh Dhoni क्रिकेट के इतिहास के महान कप्तानों में से एक हैं। अपनी जबरदस्त कप्तानी के चलते धोनी भारत को आईसीसी की तीनों ट्रॉफियों का विजेता बनवा चुके हैं साथ ही उन्होंने आईपीएल में सीएसके को सभी 10 सीजन में प्लेऑफ तक पहुंचाया है एवं 3 सीजनों में टीम को आईपीएल विजेता भी बनाया है।

अपनी कप्तानी के दौरान Mahendra Singh Dhoni टीम में ज्यादा बदलाव के पक्ष में नहीं नजर आते हैं पर कुछ खिलाड़ी ऐसे रहे हैं जिन्हे धोनी द्वारा आईपीएल में सिर्फ एक मैच खिलाकर ही टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था आज के इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे ही पांच खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे।

विजय शंकर

विजय शंकर

धोनी की कप्तानी में सीएसके से अपने आईपीएल करियर की शुरुआत करने वाले ऑलराउंडर विजय शंकर को सीएसके ने मात्र एक मैच खिलाकर पूरे सीजन बेंच पर बिठाए रखा। हालांकि उनके द्वारा बाद में सनराइजर्स हैदराबाद और दिल्ली कैपिटल्स टीम के लिए खेला गया है। विजय शंकर को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ साल 2014 में खेलने का मौका मिला था, पर इस मैच में उन्हें बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला हालांकि उनके द्वारा एक ओवर में गेंदबाजी करते हुए 19 रन लुटाए गए थे जिसके बाद से वह किसी टीम में दोबारा नहीं चयनित हुए।

अरुण कार्तिक

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की ओर से खेलते हुए रेडबैक्स के विरुद्ध अंतिम गेंद पर छक्का लगाकर सुर्खियों में आने वाले अरुण कार्तिक ने साल 2010 में सीएसके के साथ खेला था। दिनेश कार्तिक को भी इन्हीं की तरह राजस्थान के विरुद्ध डेब्यू करने का मौका मिला था और उन्होंने अपने इस मैच में 5 गेंदों पर 3 रन बनाए थे जिसके बाद उन्हें सीएसके ने दोबारा शामिल नहीं किया।

जॉन हेस्टिंग्स

साल 2010 में चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से अपना आईपीएल डेब्यु करने वाले ऑस्ट्रेलिया के पूर्व गेंदबाज जॉन हेस्टिंग्स ने अपने इकलौते मैच में 3 ओवरों में गेंदबाजी करते हुए 29 रन देकर 1 विकेट चटकाए था। अपने इस मैच के बाद जॉन को धोनी द्वारा दोबारा प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया गया हालांकि बाद में वह सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते नजर आए थे।

मार्क वुड

साल 2018 में सीएसके ने इंग्लैंड के स्टार तेज गेंदबाज मार्क वुड को अपने साथ शामिल किया था जिसके बाद उन्हें अपना सीजन का पहला मुकाबला मुंबई इंडियंस के खिलाफ खेलने को मिला। मार्क वुड ने इस मैच में गेंदबाजी करते हुए 4 ओवरों में 49 रन खर्च किए थे और वह एक भी विकेट लेने में सक्षम नहीं हुए थे। मार्क वुड ने अपने पहले ही मैच में खराब प्रदर्शन किया था जिसके चलते उन्हें सीजन के अगले मैचों में खेलने का मौका नहीं मिला हालांकि इस सीजन में अच्छी बात यह रही कि सीएसके आईपीएल विजेता बनी थी।

ALSO READ:ऋषभ पंत के आरोप के बाद अब उर्वशी रौतेला का जवाब, कहा-‘छोटू भैया बैट-बॉल खेलो..हैप्पी रक्षाबंधन भैया…’ पढ़े पूरा जवाब

थिसारा परेरा

t20 स्पेशलिस्ट माने जाने वाले श्रीलंका के स्टार ऑलराउंडर थिसारा परेरा ने साल 2009 में भारत के विरुद्ध डेब्यू करते हुए मात्र 14 गेंदों में 31 रनों की शानदार पारी खेलकर आईपीएल फ्रेंचाइजी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लिया था, जिसके चलते नीलामी के दौरान उन पर धोनी की कप्तानी वाली सीएसके ने अपना दांव लगाया था। ‌ सीएसके में शामिल होने के बाद उन्हें अपना पहला मैच मुंबई इंडियंस के खिलाफ खेलने को मिला, उन्हें इस मैच में बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला पर गेंदबाजी करते हुए उन्होंने मात्र 1 ओवर में ही 19 रन खर्च कर दिए थे जिसके बाद उन्हें दोबारा सीएसके की प्लेइंग इलेवन में शामिल होने का मौका नहीं मिला।

ALSO READ:महेंद्र सिंह धोनी के करियर के वो 5 काला धब्बा, जिसे चाहकर भी नहीं भुला सकते वो तकलीफदेह पल