क्रिकेटर पिता ने कर लिया था सुसाइड, कैंसर से जूझ रही थी अकेली माँ, अब बेटा क्रिकेट जगत में बना सबसे बड़ा नाम
क्रिकेटर पिता ने कर लिया था सुसाइड, कैंसर से जूझ रही थी अकेली माँ, अब बेटा क्रिकेट जगत में बना सबसे बड़ा नाम

भारत और इंग्लैंड (IND vs ENG ) के बीच खेले जा रहे टेस्ट मैच में जॉनी बेयरस्टो का नाम काफी चर्चा में रहा। उनकी आक्रामक पारी के बाद कई खिलाड़ियों में ट्वीट कर दिया। जिसमें वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि विराट कोहली के साथ अनबन ने उन्हें पुजारा से पंत बना दिया तो वहीं उनके देश के एक खिलाड़ी ने ट्वीट करके कहा कि जॉनी बेयरस्टो को हिस्सा नहीं दिलाना चाहिए।

बल्कि उन्हें भेंट देनी चाहिए ताकि को शांत रहे। इसी के साथ उनके शतक के साथ कई चीजें चर्चा में रही। लेकिन आज हम आपको यहां इस अंग्रेजी खिलाड़ी के साथ बचपन में हुए संघर्ष की दस्ता बताने जा रहें है। जानिए क्या है जॉनी बेयरस्टो के क्रिकेटर बनने की और संघर्ष की कहानी…

क्रिकेटर पिता ने कर लिया था सुसाइड

JONNY BAIRSTOW FATHER
JONNY BAIRSTOW FATHER

जॉनी बेयरस्टो के पिता उनके पिता डेविड बेयरस्टो भी पेशे से एक क्रिकेटर थे। डेविड बेयरस्टो ने भी क्रिकेट की दुनिया में काफी संघर्ष किया। इंग्लैंड क्रिकेट टीम की तरफ से उन्होंने 4 टेस्ट और 21 वनडे खेले थे। वही फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेविड बेयरस्टो ने लगभग 14 हजार रन बनाए थे, जिसमें 10 शतक और 73 अर्धशतक भी शामिल थे। जब जॉनी बेयरस्टो महज आठ साल के थे। तब 5 जनवरी 1998 में उनके पिता में सुसाइड कर लिया था। जॉनी बेयरस्टो कहते है कि इस सब के बाद उन्होंने निर्णय किया कि वो भी एक क्रिकेटर ही बनेंगे। अपने परिवार के मुश्किल के समय से निकलकर उन्होंने दुनिया भर में नाम कमाया है। जॉनी बेयरस्टो अपने पिता को याद करते हुए काफी भावुक होकर कहा कि

“यह बहुत विशेष था. मैं लगी भाग्यशाली रहा हूं कि मैं पूरी दुनिया घूम सका और दुनिया के सभी लोगों के पास मेरे पिता की कुछ अच्छी यादें हैं”।

Also Read : Ind Vs Eng: जॉनी बेयरस्टो और जो रूट का आया तूफान रोमांचक हुआ मुकाबला, पांचवे दिन यह खिलाड़ी दिलाएगा भारत को जीत

मां को हुआ था कैंसर

JONNY BAIRSTOW MOTHER
JONNY BAIRSTOW MOTHER

जॉनी बेयरस्टो के पिता ने जब वो महज आठ साल के थे, तब सुसाइड कर लिया था। पिता ने मां के जन्मदिन के मात्र एक दिन पहले सुसाइड किया था। लेकिन मां ने ओम दोनों बच्चों को स्कूल भेजा था और कहा अब हमें ही ये सब देखना है। जॉनी बेयरस्टो की कहानी काफी भावुक कर देने वाले है। पिता की मौत और मां को कैंसर था। जॉनी बेयरस्टो ने एक बार कहा था कि “पिता की मौत के अगले दिन मां का बर्थडे था। उस दिन मां ने मुझे और बहन को स्कूल भेजा था। मां कहती थी कि अब हालात से हमें ही निपटना होगा। उस पल ही मैंने सोच लिया कि चाहें कुछ भी हो जाए मैं भी क्रिकेटर बनूंगा”। अब जॉनी बेयरस्टो काफी अच्छे खिलाड़ियों में गिने जाते हैं।

32 साल के जॉनी बेयरस्टो अपनी टीम के लिए 86 टेस्ट मैच खेल चुके हैं। जिसमें उन्होंने 5195 रन बनाए हैं। जिसमें 10 शतक और 22 अर्धशतक भी है। 89 वन डे इंटरनेशनल मैच भी खेले हैं, जिसमें 3498 रन बनाए हैं, जिसमें 11 शतक और 14 अर्धशतक है। साथ ही 63 टी20 मैच खेले हैं। जिसमें 1190 रन बनाए हैं। जिसमें 7 अर्धशतक भी है।

Also Read : IND vs ENG: वीवीएस लक्ष्मण बनेंगे टीम इंडिया के नए हेड कोच, राहुल द्रविड़ की लेंगे जगह!