आईपीएल 2023 में जुड़ेगा नया नियम, अब 11 नहीं बल्कि 15 खिलाड़ी होंगे टीम में शामिल
आईपीएल 2023 में जुड़ेगा नया नियम, अब 11 नहीं बल्कि 15 खिलाड़ी होंगे टीम में शामिल

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) दुनिया की सबसे रोमांचक लीग है। साथ ही अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) में अब इस रोमांचक लीग को और भी रोमांचक करने की कोशिश कर रहा है। टी20 में युवा बल्लेबाज अलग अलग शॉट खेलकर और गेंदबाज नई नई तरह से गेंदबाजी कर सकते हैं। अब बीसीसीआई इसमें नए नियम लाने की कोशिश के है, ऐसा कहा जा रहा है।

बीसीसीआई भारतीय लीग में नए नियम जोकि फुटबॉल नियमो से प्रभावित हो सकते हैं। जिसकी शुरुआत सैयद मुश्ताक अली बीसीसीआई सितंबर से कर सकती है। जिनके सफल प्रयोग के बाद इन्हें इंडियन प्रीमियर लीग में उतारा जा सकता है।

इम्पैक्ट प्लेयर की आईपीएल में शुरुआत

एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार अगले साल से आईपीएल में इम्पैक्ट प्लेयर का कांसेप्ट शुरू होने वाला है। जिसके अनुसार भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ( BCCI) दर्शकों के लिए और टीमों के लिए रणनीति के लिहाज से लीग के टी20 मैचों को ज्यादा आकर्षक, रोमांचक और उत्सुकता से भरने की शुरुआत कर सकता है। जिसके लिए ‘इम्पैक्ट प्लेयर’ नियम शुरुआत की जा सकती है।

इs नियम के तहत मैच खेल रही दोनों टीम अपनी रणनीति और जरूरत के मुताबिक प्लेइंग इलेवन से किसी भी एक खिलाड़ी को बदलने का अवसर दिया जाएगा। मैच खेलने वाली टीम चाहे तो इसका इस्तेमाल कर सकती है। चाहे तो इसे छोड़ भी सकती हैं।

Also Read : IND vs AUS: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत को इन 5 प्लेयर्स से रहना होगा सावधान नहीं तो कर देंगे रोहित का काम तमाम

मुश्ताक अली में ट्रायल किया जाएगा

एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ( BCCI) आईपीएल से पहले इस नियम को अपने सभी घरेलू टी20 टूर्नामेंटों में उतारना चाहती है। इसके सफल प्रयोग के बाद इसे इंडियन प्रीमियर लीग ( IPL 2023) में उतारा जाएगा। आईपीएल 2023 में शुरुआत एक साल अप्रैल से होगी।

साथ ही इस नियम को टी20 टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में शुरू किया जायेगा।टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी की शुरुआत 11 अक्टूबर होगी और बीसीसीआई नेसभी राज्य संघों को पत्र लिखकर इस नियम की शुरुआत और इसके इस्तेमाल के तरीकों की जानकारी दी है।

कैसे करेंगी ‘इम्पैक्ट प्लेयर’ की शुरुआत

टी20 नियम के अनुसार हर टीम अपनी प्लेइंग इलेवन के साथ ही चार अन्य खिलाड़ियों के नाम भी बताएगी। टीम को ये सभी नाम टॉस के वक्त बताने होंगे। जिसके बाद कप्तान प्लेइंग इलेवन में इन चार खिलाड़ियों में से एक को टीम में शामिल कर सकती हैं। लेकिन कप्तान को ये बदलाव 14वें ओवर से पहले ही करना होगा। एक बार इम्पैक्ट प्लेयर सब्सटिट्यूट लागू होने के बाद बाहर जाने वाला खिलाड़ी किसी भी रूप में (इंजरी सब्सटिट्यूशन) भी खेल का हिस्सा नहीं बन सकेगा।

कोई भी सब्सटिट्यूट खिलाड़ी को ओवर के बीच (इंजरी को छोड़कर) में नहीं होगा बल्कि ओवर खत्म होने के बाद या पारी खत्म होने के बाद किया जा सकेगा। अगर फील्डिंग कर रही टीम किसी गेंदबाज को टीम में लाना चाहती है, तो वह ऐसा कर सकती है। लेकिन बाहर जाने वाले खिलाड़ी ने एक से ज्यादा ओवर नहीं डाला है, तो ‘इम्पैक्ट प्लेयर’ के तौर पर आने वाले खिलाड़ी को पूरे 4 ओवर करने की इजाजत होगी।

क्रिकेट में नहीं बल्कि फुटबॉल, हॉकी, रग्बी, बास्केटबॉल में ये नियम पहले ही है। क्रिकेट में करीब डेढ़ दशक पहले ‘सुपर-सब’ का नियम लाया गया था जिसमे खिलाड़ी को सब्सटिट्यूट करने का प्रावधान था। लेकिन इसे कुछ खास पसंद नही किया गया था, जिसके बाद ICC ने इसे हटा दिया था।

इसके दो साल के बाद ही ऑस्ट्रेलिया की टी20 लीग बिग बैश में ‘एक्स फैक्टर’ नियम लाया था, अब BCCI का ‘इम्पैक्ट प्लेयर’ नियम लाया गया है। BBL में बदलाव 10वें ओवर के बाद ही संभव है।

Also Read : IND A VS NZ A: भारत के सामने न्यूज़ीलैंड ने टेके घुटने, भारतीय स्पिनरों के जाल में फंसे कीवी बल्लेबाज, देखें जीत से कितना दूर है टीम इंडिया