धोनी रॉबिन उथप्पा

इंडियन प्रीमियर लीग में चार बार खिताब अपने नाम दर्ज कराने वाली चेन्नई सुपरकिंग्स ( Chennai Super Kings) टीम इस साल मेगा ऑक्शन में कई अनुभवी और युवा खिलाड़ियों के साथ अपनी टीम तैयार कर चुकी है। इस टीम में पुराने और नए कई खिलाड़ी मौजूद है, हालांकि टीम की जीत की राह कुछ कमजोर नजर आ रही है।

इसी बीच चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाड़ी रॉबिन उथप्पा ( Robin Uthappa) ने एक इंटरव्यू में बताया है कि टीम में उनकी लेने का फैसला धोनी का नहीं टीम के चयनकर्ताओं का था। जिसके बाद के रॉबिन उथप्पा को ये पता चला तब उनने काफी आत्मविश्वास भर गया।

धोनी ने फोन पर बताया कि टीम में लेने का फैसला उन्होंने नहीं किया था

धोनी रॉबिन उथप्पा

चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाड़ी रॉबिन उथप्पा ने हाल ही में दिए अपने इंटरव्यू में बताया है कि मेगा ऑक्शन में चयन के दो दिन बाद महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें फोन किया। जिसके बाद रॉबिन उथप्पा ने उनसे टीम के लिए उनके ऊपर विश्वास दिखाने के किए धन्यवाद किया। जिसपर महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि ये फैसला उनका नही था। उन्होंने कोई हस्तक्षेप नहीं किया वर्ना लोग रॉबिन उथप्पा को लेने के पीछे के कारण उनकी दोस्ती को समझते न की उनके क्रिकेट को।

रॉबिन उथप्पा ने इंटरव्यू में बताया कि,

” MSD ने मुझे मेगा ऑक्शन के दो दिन बाद कॉल किया और कहा मिलते हैं भाई! उन्होंने मुझसे कहा कि टीम में आपका स्वागत है। जिसपर मैने कहा कि मुझ पर विश्वास दिखाने के किए धन्यवाद। इस फैसले में मेरा कोई हस्तक्षेप नहीं है। मैने दो कारणों से मैने कोई भी राय नहीं दी है। पहला कि तुम्हारा फायदा हो, तुम्हे तुम्हारी काबिलियत के बल पर मौका मिले। दूसरा कि लोग फिर हमेशा कहते कि तुम मेरे दोस्त हो इसलिए टीम में लिया गया है। इस फैसले में मेरा कोई हाथ नहीं है”।

ALSO READ:IPL 2022: कप्तान हार्दिक पांड्या के इस गलती से फंस गयी थी गुजरात टाइटंस, फिर राशिद खान ने पलटा गेम

माही के ऐसा कहने के बाद रॉबिन उथप्पा को महसूस हुआ जुड़ाव

रॉबिन उथप्पा ने आगे अपने इंटरव्यू में बताया है कि इससे उनको टीम में जुड़ाव महसूस हुआ। उन्होंने कहा कि,

” जब ये फैसला मेरे पास आया तब मैंने  सहयोगी स्टाफ, कोचिंग स्टाफ और प्रबंधन से पूछा था कि अगर वो इस फैसले के साथ ठीक हैं तब हम आगे बढ़ सकते हैं। मैं इसमें कोई बदलाव नहीं करना चाहता हूं। इस बात ने मुझको विश्वास दिलाया कि सहयोगी स्टाफ का फैसला था। जिसके बाद मझे ऐसा लगा कि हा अब मैं टीम के साथ जाकर अपने हिसाब से खेल सकता है। इसके तुरंत बाद ही टीम के साथ मुझे जुड़ाव महसूस हुआ”।

ALSO READ:IPL 2022: 9 करोड़ वाले धोनी के खिलाड़ी को 90 लाख में खरीदकर गौतम गंभीर ने बनाया लखनऊ का हीरा, डेब्यू करते ही बिखेरा जलवा