भारतीय क्रिकेट टीम ने मुंबई में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में न्यूजीलैंड (IND vs NZ) को 372 रनों से हराकर इतिहास रच दिया है। टेस्ट क्रिकेट में भारत की रनों के हिसाब से ये सबसे बड़ी टेस्ट जीत है। भारत ने इस मैच में जीत दर्ज करने के साथ ही सीरीज पर भी कब्जा किया, लेकिन मुंबई में खेला गया ये मुकाबला न्यूजीलैंड के स्पिनर Ajaz Patel के नाम पर जाना जाएगा। 

सोशल मीडिया पर Ajaz Patel को मिल रहा साथ

मुंबई में ही पैदा हुए Ajaz Patel ने भारत के खिलाफ पहली पारी में सभी दस विकेट झटके (मैच में कुल 14 विकेट), ऐसा करने वाले वो टेस्ट इतिहास में सिर्फ तीसरे बॉलर हैं। लेकिन इतने बड़े इतिहास के बावजूद एजाज पटेल को प्लेयर ऑफ द मैच नहीं चुना गया और मैच में शानदार बैटिंग करने वाले मयंक अग्रवाल को प्लेयर ऑफ द मैच का खिताब मिला। इसी को लेके सोशल मीडिया पर बहस शुरू हो गई है, वो इसलिए क्योंकि Ajaz Patel ने जो कारनामा किया है वो इतिहास में कम ही देखने को मिलता है। 

BCCI ने दिया ये उपहार

बीसीसीआई ने मैच के बाद सोशल मीडिया पर एक फोटो पोस्ट किया है, जिसमें टीम इंडिया ने कीवी स्पिनर एजाज को सभी भारतीय खिलाड़ियों द्वारा साइन की गई एक जर्सी भेंट की है

 

मयंक अग्रवाल ने किया बल्ले से कमाल

मयंक अग्रवाल ने इस मैच में पहली पारी में 150 रन बनाए और दूसरी पारी में 62 रन बनाने के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। इस फैसले पर फैंस आगबबूला हो गए। सिर्फ यही नहीं, कई पूर्व और दिग्गज क्रिकेटर्स ने भी इस फैसले पर सवाल खड़े किए हैं। उन्हें भी यह फैसला पसंद नहीं आया है। 

ALSO READ: IND vs NZ: अंपायर पर भड़के विराट कोहली ने कहा- ‘तुम इधर आ जाओ, मै ही उधर आ जाता हूं’

Ajaz Patel  के नाम ऐतिहासिक रिकॉर्ड

Ajaz Patel ने सिर्फ एक पारी में दस विकेट ही नहीं लिए, बल्कि पूरे मैच में उन्होंने कुल 14 विकेट झटके। टीम इंडिया की दूसरी पारी में भी Ajaz Patel ने 4 विकेट अपने नाम किए। जिम लेकर और अनिल कुंबले के बाद ये खास मुकाम हासिल करने वाले दुनिया के तीसरे गेंदबाज बन गए हैं। 

जिम ने 1956 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड में यह कमाल किया था। उन्होंने 51.2 ओवर में 53 रन देकर 10 विकेट लिए थे। वहीं कुंबले ने पाकिस्तान के खिलाफ दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में फरवरी 1999 में 26.3 ओवर में 74 रन देकर 10 विकेट लिए थे।

ALSO READ: IND v NZ: 1 लाख का चेक ईनाम में उस खिलाड़ी को मिला जो टीम के प्लेइंग XI का हिस्सा भी नहीं था