भारतीय टीम का पिछले 5 सालो का शेड्यूल आया सामने, जानिए टीम इंडिया को किस देश से खेलने हैं कितने मैच
भारतीय टीम का पिछले 5 सालो का शेड्यूल आया सामने, जानिए टीम इंडिया को किस देश से खेलने हैं कितने मैच

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) की तरफ से अगले पांच सालों के लिए एफटीपी (FTP) प्रोग्राम जारी कर दिया है. आईसीसी की तरफ से 2023 से 27 तक का एफटीपी(FTP) प्रोग्राम का ऐलान कर दिया गया है. 17 अगस्त, बुधवार को आईसीसी द्वारा इस प्रोग्राम का ऐलान किया गया. इस बार के FTP में पिछली बार के मुकाबले ज़्यादा मुकाबले खेले जाएंगे. इस बार आईसीसी (ICC) ने एफटीपी (FTP) में 12 फुल मेंबर्स को शामिल किया है, जो अलग-अलग सीरीज़ें खेलेंगे.

पिछली बार से बढ़ी मैचों की संख्या

INDIAN TEAM

इस बार के एफटीपी(FTP) में मैचों की संख्या बढ़ गई है, जहां पिछली बार की एफटीपी(FTP) में कुल 694 मैच शामिल किए थे, इस बार की एफटीपी में कुल 777 अंतर्राष्ट्रीय मैचों को शामिल किया गया है.

इस बार साल 2023-27 की FTP में 12 सदस्य मिलकर कुल 173 टेस्ट मैच, 281 वनडे और 323 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले जाएंगे. इस बार के एफटीपी के कैलेंडर को कापी बिज़ी बनाया गया है.

इस बार होगा ज़्यादा वर्कलोड

BCCI

इस बार की FTP को देखते हुए लग रहा है कि मैनेजमेंट पर ज़्यादा वर्कलोड होगा. बता दें, इसमें आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के अगले दो चक्र के साथ तमाम द्विपक्षिय और ट्राई-सीरीज़ों को शामिल किया गया है. तमाम इंटरनेशनल मैचों के अलावा हर देश में अपनी एक टी20 लीग होती है.

ALSO READ: ये 3 खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी के बाद बन सकते हैं चेन्नई सुपर किंग्स के नये कप्तान, नंबर 2 धोनी का भी है पसंदीदा

खिलाड़ी कैसे खेलेंगे इतने मैच

इस बार खिलाड़ियों पर पहले से और ज़्यादा मैच खेलने का दवाब होगा. हर एक देश में होने वाली लीग करीब 2 महीनें चलती है. ऐसे में इंटरनेशनल मैचों में के साथ खिलाड़ियों को इन लीगों में खेलना काफी मुश्किल होगा. हर टीम का क्रिकेट बोर्ड अपने खिलाड़ियों को किस तरह से मैच खेलने की इजाज़त देगा, ये देखने वाली बात होगी.

जैसा कि आप जानते हैं कि हर देश की लीग में दुनिया भर के खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं. वहीं, इंडियन टीम के खिलाड़ी आईपीएल के अलावा किसी लीग का हिस्सा नहीं बनते हैं.

ALSO READ: दिनेश कार्तिक ने पूर्व कोच रवि शास्त्री के खिलाफ बोले तीखे बोल, कहा उनकी ये 2 आदतें किसी भी खिलाड़ी को नहीं थी पसंद