फुटबॉल मैदान पर चोटिल होने के बाद क्रिकेट में आजमाया हाथ, जानिए रजत पाटीदार का फुटबॉलर से क्रिकेटर बनने की स्टोरी
फुटबॉल मैदान पर चोटिल होने के बाद क्रिकेट में आजमाया हाथ, जानिए रजत पाटीदार का फुटबॉलर से क्रिकेटर बनने की स्टोरी

आईपीएल के 15वें सीजन का आगाज 26 मार्च 2022 में हुआ था इससे पहले आईपीएल ऑक्शन जो 12-13 फरवरी को हुए थे. इस साल कई ऐसे छोटे खिलाड़ियों के साथ-साथ कई बड़े खिलाड़ी भी आईपीएल 2022 में जगह नहीं बना पाए. वहीं आज बात करते है एक ऐसे खिलाड़ी की जो बिना ऑक्शन में बिके ही आज बन गया स्टार.

एलिमिनेटर मुकाबले में रजत पाटीदार बने स्टार

आईपीएल 2022 का एलिमिनेटर राउंड 25 मई को रॉयल चेलेंजर बैंग्लोर और लखनऊ सुपर जायटंस के बीच खेला गया था. लखनऊ ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया बदले में आरसीबी बल्लेबाज़ी करने उतरी तो लखनऊ ने उनके कप्तान को पहले ओवर में ही पवेलियन भेज दिया. उसके बाद रजत पाटीदार ने शतकीय पारी खेली और टीम को एक अच्छे स्कोर पर खड़ा कर दिया.

रजत पाटीदार ने एलिमिनेटर मुकाबले में 54 गेंद पर 12 चौको और 7 छक्को की मदद से नाबाद 112 रन बनाए और टीम को 207 रनों तक पहुंचा दिया. इस मुकाबले को आरसीबी ने 14 रनों से जीत लिया.

रिप्लेमेंट के बदौलत मिली थी जगह

रजत पाटीदार

बता दें, रजत एक रिप्लेसमेंट की तौर पर आरसीबी कैम्पेन में जुड़े थे, लवनीत सिसोदिया के रिप्लेस में आरसीबी टीम में शामिल हुए थे. इनको आरसीबी ने बेस प्राइस 20 लाख में खरीदा था, पिछले साल आरसीबी के कप्तान विराट कोहली ने इनको चार मौके दिये थे, उसमें रजत 71 रन ही बना पाए थे, हालांकि इस साल पाटीदार को सात मैच खेलने का मौका मिला. आईपीएल 2022 में पाटीदार ने एक शतक और एक फिफ्टी बनाने के साथ अब तक 275 रन बनाए हैं.

रजत पाटीदार का क्रिकेटर बनने का सफर

Rajat patidar

रजत पाटीदार को अपनी लाइफ में क्रिकेटर बनने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी है. इंदौर शहर से काफी महान क्रिकेटर्स उभर कर निकले हैं. उस लिस्ट में अब रजत पाटीदार का नाम भी शामिल हो गया है. बचपन में रजत के दादा ने इनको अकादमी में डाल दिया था.
बता दें कि रजत का फास्ट बॉलर बनना एक सपना था.

हालांकि, रजत को टीम में मौका नहीं मिला उसके बाद उन्होंने स्पिन गेंदबाज के रूप में टीम में शामिल होने का ख्वाब भी अधूरा रह गया. इनकी लाइफ में एक टर्निंग पाइंट आया साल 2014 में फुटबॉल के मैदान पर इनका दांया गुटने में चोट लग गई, हालांकि ये चोट इनके लिए किसी वरदान से कम नहीं थी.

ALSO READ: IPL 2022: PUNJAB KINGS के 3 ऐसे खिलाड़ी जिन्हें प्रीति जिंटा अगले साल IPL 2023 में कर देंगी रिलीज

फैमिली ने खानदानी बिज़नेस को संभालने के लिए डाला प्रेशर

Rajat patidar

साल 2014 में चोट के बाद रजत की फैमिली ने इन्हेंं बने बनाए बिज़नेस को संभालने के लिए बोला. हालांकि, उन्होंने घर वालों को साफ इंकार कर दिया था. चोट के बाद रजत 18 महीने क्रिकेट से दूर रहे, लेकिन उसके बाद पूर्व बल्लेबाज अमय खुरासिया की सपोर्ट से पाटीदार को मध्य प्रदेश में टॉप आर्डर बल्लेबाज के रूप में रणजी खेलने का मौका मिला था.

हालांकि, अगर पाटीदार अपनी फैमिली की बात मान लेते तो आज रजत पाटीदार जैसा खिलाड़ी हम लोगों को ना मिलता. रणजी खेलने के बाद रजत ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा और आगे बढ़ते चले गए. और आज एक स्टार बन कर उभर रहे हैं.

ALSO READ: 58 साल की उम्र में आमिर खान करने जा रहे 30 साल की इस लड़की से शादी, खूबसूरती के सामने फेल हैं करीना, कैटरीना