क्रिकेट जगत के वो दिग्गज खिलाड़ी जिन्होंने इंटरनेशनल मैच में खूब जलवा बिखेरा, लेकिन IPL में साबित हुए फ्लॉप खिलाड़ी
क्रिकेट जगत के वो दिग्गज खिलाड़ी जिन्होंने इंटरनेशनल मैच में खूब जलवा बिखेरा, लेकिन IPL में साबित हुए फ्लॉप खिलाड़ी

क्रिकेट की सर्वश्रेष्ठ लीग में IPL  पहले पायदान पर है। इस लीग ने क्रिकेट की लोकप्रियता के साथ ग्लैमर और पैसा दोनों को जोड़ा है। आईपीएल के कारण ही बहुत से खिलाड़ियों के करियर को नया मुकाम दिया है। आईपीएल से भारतीय टीम के साथ ही विदेशी खिलाड़ियों भी मंच मिला। हालांकि इतनी लोकप्रिय लीग होने के बावजूद बहुत से खिलाड़ी ऐसे भी हैं, जिनसे उम्मीद तो काफी रही, लेकिन वो उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए।

सौरव गांगुली

सौरव गांगुली अपनी टीम को कभी प्लेऑफ में नहीं पहुंचा पाये। उनकी बड़ी विफलता मानी जाती है। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली IPL  के पहले तीन सीजन में कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा रहे। इस बीच दो सीजन उन्होंने टीम की कप्तानी भी की। 2011 में हुई नीलामी में उन्हें किसी भी टीम ने नहीं खरीदा था। वह अनसोल्ड की स्थिति में आ गये थे। पुणे वॉरियर्स इंडिया ने चोटिल आशीष नेहरा की जगह अपनी टीम में शामिल किया। इसके बाद 2012 में उन्होंने पुणे टीम की कप्तानी भी की। गांगुली कप्तान वो एक बार भी अपनी टीम को सेमीफाइनल में नहीं ले जा पाये। उन्होंने आईपीएल कॅरिअर में उन्होंने 59 मुकाबलों में 25.45 की औसत से 1349 रन बनाये। उन्होंने 7 अर्धशतक लगाए और 10 विकेट भी लिये।

वीवीएस लक्ष्मण

VVS laxman

वीवीएस लक्ष्मण का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा। वह अपनी टीम की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाये। वेरी-वेरी स्पेशल के नाम से मशहूर लक्ष्मण ने भारतीय टीम को कई बार मुश्किल स्थिती से निकाला। हालांकि IPL  में वो कभी भी शानदार प्रदर्शन नहीं कर पाए। वीवीएस लक्ष्मण आईपीएल में डेक्कन चार्जर्स और कोच्ची टस्कर्स केरल के लिए खेले और इस बीच पहले सीजन में वो टीम के कप्तान भी रहे। लक्ष्मण आईपीएल में 20 मुकाबले खेले, जिसमें 14.84 की औसत और 105.62 की स्ट्राइक रेट से सिर्फ 282 रन बनाये। इस बीच उनके बल्ले से सिर्फ एक अर्धशतक निकला और उनका सर्वाधिक स्कोर 52 का रहा।

केविन पीटरसन

kevin pitersan

IPL  2009 में केविन पीटरसन को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने बड़ी कीमत पर खरीदा था। इस सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी भी थे। आरसीबी के अलावा पीटरसन दिल्ली डेयरडेविल्स (अब कैपिटल्स) के लिए भी खेले। पीटरसन ने आईपीएल में 36 मुकाबले खेले, जिसमें उन्होंने 37.07 की औसत और 134.72 की स्ट्राइक रेट से 1001 रन बनाए। पीटरसन ने 4 अर्धशतक और 1 शतक भी लगाया। उनका सर्वाधिक स्कोर 103’ रन रहा। केविन पीटरसन ने गेंद के साथ 7 विकेट भी चटकाए। पीटरसन आखिरी बार 2016 में आईपीएल खेलते हुए नजर आए थे। पीटरसन जिस भी टीम के साथ खेले, उसकी उम्मीदों पर खरा नहीं उतर सके।

रॉस टेलर

Rose tayler

न्यूजीलैंड टीम के दिग्गज बल्लेबाज रॉस टेलर IPL  में चार टीमों का हिस्सा रहे हैं। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, राजस्थान रॉयल्स, पुणे वॉरियर्स इंडिया और दिल्ली डेयरडेविल्स (अब कैपिटल्स) के लिए खेले हैं लेकिन हमेशा कमजोर साबित हुए। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इतना अच्छा करने के बावजूद 2014 के बाद से वो आईपीएल में खेलते हुए नजर नहीं आए हैं। आईपीएल कॅरिअर में रॉस टेलर ने 55 मैचों में 25.42 की औसत और 123.72 की स्ट्राइक रेट से 1017 रन बनाये। इस बीच उनके बल्ले से सिर्फ 3 अर्धशतक ही निकले। राॅस टेलर का आईपीएल में सर्वाधिक स्कोर 81 रहा। उनके जैसे खिलाड़ी के लिए यह आंकड़ें काफी हैरान करने वाले हैं।

मोहम्मद कैफ

Mohmad kaif

भारतीय टीम के दिग्गज फील्डर रहे आॅलराउंडर रहे मोहम्मद कैफ आईपीएल के पहले सीजन में ही राजस्थान रॉयल्स टीम के लिये खेले थे। इसके बाद अगले ही सीजन में रॉयल्स ने उन्हें रिलीज कर दिया। 2010 में वो किंग्स का पंजाब का हिस्सा रहे लेकिन अगले सीजन में पंजाब ने उन्हें हटा दिया और वो फिर वो रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर टीम के साथ जुड़ गए। वह हमेशा टीम बदलते रहे लेकिन उनका प्रदर्शन उम्मीद के अनुरूप नहीं रहा। मोहम्मद कैफ ने आईपीएल में सिर्फ 29 मैच ही खेले, जिसमें 14.38 की औसत और 103.60 की स्ट्राइक रेट से सिर्फ 259 रन बनाए। कैफ ने इस बीच कोई भी अर्धशतक या शतक नहीं लगाया। कैफ ने 2012 में आखिरी बार आईपीएल में कोई मैच खेला। उनका आईपीएल करियर 2012 में ही खत्म हो गया।

एंजेलो मैथ्यूज

श्रीलंका के पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज आईपीएल में कोलकाता नाइटराइडर्स, दिल्ली डेयरडेविल्स (अब कैपिटल्स) और पुणे वॉरियर्स इंडिया के लिए खेले हैं। 2017 में आखिरी बार आईपीएल का हिस्सा लेने वाले एंजेलो मैथ्यूज ने 49 मुकाबलों में 724 रन बनाए और इस बीच उनका स्ट्राइक रेट 125.91 का रहा। मैथ्यूज ने सिर्फ एक अर्धशतक लगाया, तो गेंद के साथ उन्होंने 27 विकेट भी लिए। वह किसी भी टीम के उम्मीदों पर खरे नहीं उतर सके।

नमन ओझा

नमन ओझा IPL  में राजस्थान रॉयल्स, सनराइजर्स हैदराबाद और दिल्ली कैपिटल्स का हिस्सा रहे हैं। ओझा का प्रदर्शन आईपीएल में कमजोर रहा। ओझा ने 113 मुकाबले खेलते हुए 20.72 की औसत और 118.35 की स्ट्राइक रेट से 1554 रन बनाए। उन्होंने इस बीच 6 अर्धशतक भी लगाए और कीपिंग करते हुए 64 कैच और 10 स्टंपिंग भी किये। 2018 में वो आखिरी बार आईपीएल खेलते हुए नजर आए थे। वर्तमान में वह किसी भी फ्रेंचाईजी के हिस्सा नहीं थे।

डैनियल क्रिश्चियन

ऑस्ट्रेलिया के ऑलराउंडर डेनियल क्रिश्चियन आईपीएल में कई टीमों का हिस्सा रहे हैं। डैनियल क्रिश्चियन डेक्कन चार्जर्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली कैपिटल्स और राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स के लिए खेले हैं। चार टीमों के साथ जुड़े रहने के बाद भी उनका प्रदर्शन बहुत ही कमजोर रहा।ं क्रिश्चियन ने आईपीएल में 49 मुकाबलों में 115.58 की स्ट्राइक रेट से 460 रन बनाए और गेंद के साथ 49 मैचों में 8.10 के इकॉनमी रेट से 38 विकेट विकेट भी लिये।

ALSO READ:IND vs ENG: विराट कोहली ने अभ्यास मैच में प्रसिद्ध कृष्णा को जड़ा थप्पड़ 6, देखें वीडियो

रमेश पोवार

आईपीएल में रमेश पोवार का प्रदर्शन बहुत ही कमजोर रहा। भारतीय महिला टीम के पूर्व कोच रमेश पोवार आईपीएल में किंग्स पंजाब और कोच्ची टस्कर्स केरल के लिए खेले। दाएं हाथ के ऑफ स्पिनर ने अपना आखिरी आईपीएल मुकाबला 2012 में ही खेला था। अपने करियर में उन्होंने 27 मुकाबले खेले, जिसमें 7.42 की इकॉनमी रेट से सिर्फ 13 विकेट ही लिए।

मुरली कार्तिक

मुरली कार्तिक कई टीमों का हिस्सा रहे हैं लेकिन IPL  में वह प्रदर्शन नहीं कर पाये। भारतीय टीम के पूर्व बाएं हाथ के स्पिनर मुरली कार्तिक आईपीएल में कई टीमों का हिस्सा रहे और कोलकाता नाइट राइडर्स, पुणे वॉरियर्स इंडिया, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और किंग्स पंजाब के लिए खेलते रहे हैं। कार्तिक आखिरी बार 2014 में आईपीएल खेलेे थे। कार्तिक ने अपने आईपीएल करियर में 56 मुकाबले खेले, जिसमें 7.24 की इकॉनमी रेट से 31 विकेट ही लिए। इस बीच उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 17 रन देकर तीन विकेट लेना रहा।

अशोक डिंडा

IPL  में 2017 तक खेलने वाले अशोक डिंडा कोलकाता नाइट राइडर्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली डेयरडेविल्स (अब कैपिटल्स), पुणे वॉरियर्स इंडिया और राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स के लिए खेले। पांच टीमों के साथ खेलने वाले अशोक आईपीएल में कछ बड़ा करिश्मा नहीं कर पाये। आईपीएल में डिंडा ने 78 मैच खेले, जिसमें 8.22 की महंगी इकॉनमी रेट से 68 विकेट लिए। इस बीच उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 18 रन देकर 4 विकेट रहा।

ALSO READ:मात्र 17 की उम्र में भारतीय टीम में डेब्यू वाले इस धाकड़ खिलाड़ी को शराब की लत ने किया बर्बाद, शुरू होते खत्म हुआ करियर