क्रिकेट छोड़ने के बाद चमकी इन 4 भारतीय खिलाड़ियों की किस्मत, कोई बना उप मुख्यमंत्री तो कोई फेमस सिंगर और वकील
क्रिकेट छोड़ने के बाद चमकी इन 4 भारतीय खिलाड़ियों की किस्मत, कोई बना उप मुख्यमंत्री तो कोई फेमस सिंगर और वकील

Cricket का खेल उन खेलों में से एक है, जिसके चाहने वाले प्रत्येक देश में मिल जाएंगे। जहां एक तरफ क्रिकेट कई खिलाड़ियों को बुलंदियों की ऊंचाइयों तक पहुंचाने में कामयाब रहा, वहीं दूसरी तरफ इस क्षेत्र में कई खिलाड़ी फ्लॉप भी साबित हुए। क्रिकेट जगत के कई खिलाड़ी ऐसे भी हुए जो क्रिकेट के खेल को छोड़ने के बाद सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंच अपार सफलता हासिल की। आज के इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसे ही क्रिकेटर्स के बारे में बताएंगे।

एकलव्य द्विवेदी

2016 में एकलव्य द्वारा 43 प्रथम श्रेणी मैच खेलने के साथ साथ इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में भी भाग लिया गया था। जब क्रिकेट में इस क्रिकेटर को कामयाबी हासिल नहीं हो सकी तो इसने अपने पेशे को बदलने का निश्चय किया। और पैतृक विरासत ध्यान में रखते हुए वकील बनने का फैसला किया एकलव्य को अपने किए गए फैसले में कामयाबी मिली और बतौर वकील एकलव्य अपना पेशा शुरू कर चुके हैं।

तेजस्वी यादव

दिल्ली की अंडर 17 टीम की तरफ से खेलते हुए तेजस्वी यादव मुंबई के खिलाफ शतक ठोक कर अपनी टीम को विजेता बनाने में कामयाबी हासिल कर चुके हैं। तेजस्वी यादव इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) सीजन 2008, 2009, 2011 और 2012 में दिल्ली कैपिटल्स (तत्कालीन दिल्ली डेयरडेविल्स) का हिस्सा रह चुके हैं।

तेजस्वी को मैच खेलने के अधिक अवसर नहीं मिल सके, लेकिन क्रिकेट छोड़ने के बाद उन्हें अपने मुकाम में काफी सफलता हासिल हुई। अब तेजस्वी बिहार राज्य के डिप्टी सीएम का पद संभाल रहे हैं।

हार्डी संधू

साल 2005 में दाएं हाथ के बल्लेबाज और फास्ट मीडियम गेंदबाज हार्डी संधू द्वारा अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत की गई। भारतीय अंडर-19 और अंडर-17 क्रिकेट टीमों के लिए हार्डी संधू खेल चुके हैं, पंजाब के लिए संधू द्वारा तीन रणजी मैच में 12 विकेट हासिल किए गए।

ALSO READ: ICC World Cup 2023: वेस्टइंडीज का विश्व कप 2023 खेलने का टूट सकता है सपना, आयरलैंड के पास है टॉप 8 में पहुंचने का मौका

साल 2006 के दौरान क्रिकेट के मैदान पर चोट का शिकार होने के कारण संधू ने क्रिकेट से दूरी बनाने का फैसला किया। जिसके चलते आज हार्डी संधू एक बड़े पंजाबी गायक और अभिनेता बन चुके हैं। उनके फैंस में भी उनकी आवाज और एक झलक पाने की दीवानगी नजर आती है।

आकाश चोपड़ा

बतौर क्रिकेटर आकाश चोपड़ा अपनी छाप छोड़ने में नाकामयाब साबित हुए। अपने करियर में 10 टेस्ट मैचों के दौरान आकाश चोपड़ा मात्र 437 रन बनाने में कामयाब रहे। लेकिन अब क्रिकेट से अलविदा बोलने के बाद आकाश चोपड़ा कमेंट्री की दुनिया में करोड़ों की कमाई करते नजर आ रहे हैं।

बतौर कमेंटेटर आकाश चोपड़ा अपने करियर बनाने में कामयाब साबित हुए। आकाश चोपड़ा का स्टार स्पोर्ट्स चैनल के साथ भी कॉन्ट्रैक्ट है।

ALSO READ: Asia Cup 2022: एशिया कप की खूबसूरत ट्रॉफी आई सामने देखें वीडियो, टूर्नामेंट के बारे में ये बातें आज तक नहीं जानते होंगे आप