हर किसी क्रिकेटर का सपना होता है कि वह अपने देश के लिए क्रिकेट खेल सके और खूब नाम कमाए। लेकिन कुछ ऐसे दिग्गज क्रिकेटर्स भी रहे, जिन्हें अपने अपने देश के लिए इंटरनेशनल मैच खेलने का मौका तो मिला, लेकिन कुछ ही मैचों बाद उन्हे फिर से मौका नहीं मिला या उनकी काबिलियत पर भरोसा नहीं जताया गया। 

आकाश चोपड़ा

आकाश चोपड़ा उनमें से एक खिलाड़ी रहे जिन्हे उनकी काबिलियत के हिसाब से नही आंका गया। उनका फर्स्ट क्लास करियर का रिकॉर्ड बेहद शानदार रहा था। उन्होंने 45.35 की औसत से 10,839 रन बनाए जिसमे 29 शतक शामिल थे। इसके बावजूद सिर्फ उन्हे 10 टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला, जो की विदेशी जमीन पर खेले गए थे। 

यूसुफ पठान

यूसुफ पठान सफेद गेंद क्रिकेट में बेहद लाजवाब खिलाड़ी थे। उन्होंने आईपीएल में 140 से ऊपर की स्ट्राइक रेट से रन बनाए थे। साथ ही उन्हे सिर्फ 57 वनडे और 22 टी20 खेलने का मौका मिला जबकि उनका वनडे में स्ट्राइक रेट 113.6 का था और टी20 में 146.58। 

इरफान पठान

हरफनमौला खिलाड़ी इरफान पठान अपने करियर के शुरुआती दिनों में बेहद प्रभावी और सनसनीखेज प्रदर्शन से काफी डिमांड में रहे। लेकिन चोट के कारण उन्हे टीम से कई दफा अंदर बाहर होना पड़ा था। लेकिन इसके बावजूद उनका प्रदर्शन खराब नही हुआ था। उन्होंने भारतीय टीम के लिए 29 टेस्ट मैच, 120 वनडे मैच और 24 टी20 मैच खेले। 

ALSO READ:IND vs AUS: आज दूसरे टी20 में जसप्रीत बुमराह की वापसी के बाद भारतीय टीम से बाहर होगा ये खिलाड़ी

इमरान नजीर

इस लिस्ट में एक पाकिस्तानी खिलाड़ी भी है जिसे उतने मौके नही मिले जितना वो डिजर्व करते दे। ये खिलाड़ी है इमरान नजीर। इस सलामी बल्लेबाज ने पाकिस्तान टीम के लिए 8 टेस्ट, 79 वनडे और 20 टी20 मैच खेले। वह अपने समय में बेहतरीन हिटर माने जाते थे पर उन्हे ज्यादा मौके नही दिए गए। 

क्रिस लिन

मॉडर्न क्रिकेट के वो खिलाड़ी, जो ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं, उनमें नाम आता है ऑस्ट्रेलिया के क्रिस लिन का। क्रिस लिन आईपीएल और बिग बैश लीग में अपने खेल से बेहद प्रसिद्ध हुए हैं और वे लंबे छक्के लगाने के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने आज तक ऑस्ट्रेलिया के लिए 4 वनडे और 18 टी20 खेले हैं। 

ALSO READ:IND vs AUS: “उसे क्यों नजरअंदाज कर रहे हो” सुनील गावस्कर ने राहुल द्रविड़ और रोहित शर्मा के टीम चयन पर उठाया सवाल