दुल्हन ने दहेज में डीएम से माँगा सड़क, कहा मेरी बारात आने से पहले बनवा दीजिए

ALIGARH GIRL ROAD

अलीगढ़ में शादी की एक खबर आई है, जहां दुल्हन को खुद अपनी बारात की चिता सताने लगी है। अलीगढ़ के एक गांव में जब शादी की तैयारियां अंतिम दौर में थी, तो दुल्हन को यह चिंता खाए जा रही थी कि बाराती इतनी बदहाल सड़क से आएंगे कैसे। आइए जानते है अलीगढ़ की इस दुल्हन की पूरी कहानी..

डीएम के पास भेजी अर्जी

alkigarh girl

अलीगढ़ के इगलास इलाके के हस्तपुर गांव में लड़की की शादी से पहले दिलचस्प घटना सामने आई है। अलीगढ़ जिलाधिकारी दफ्तर में करिश्मा नाम की गांव की एक युवती अपनी शादी से पहले फरियाद लेकर पहुंच गई। उसने डीएम से गांव की सड़क बनवाने की मांग की। युवती ने डीएम को बताया कि उसकी जल्द ही शादी होने वाली है और गांव की सड़क काफी समय से बदहाल हालत में जर्जर पड़ी हुई है। इससे गांव के अंदर बारात को आने में दिक्कत होगी। डीएम चंद्रभूषण सिंह ने युवती की गुहार पर फौरन ऐक्शन लिया।

यह भी पढ़े: खुद को जिंदा साबित करने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट रहा ये शख्स, फिल्म “कागज” से मिलती है स्टोरी

उन्होंने तत्काल संबंधित अधिकारी को युवती की शादी से पहले ही सड़क बनाने के निर्देश दिए। बीएड पास युवती का कहना था कि उसके गांव की जो सड़क है वह बहुत ही जर्जर है। इससे गांव के अंदर काफी समस्या हो रही है। अब बारात भी गांव में आने वाली है। खराब पड़ी सड़क के कारण बारात को आने में भी काफी दिक्कत होगी। इसलिए वह डीएम कार्यालय पर सड़क बनवाने की मांग को लेकर पहुंची थी।

शादी से पहले बनेगी सड़क

aligarh girl dm

आपको बता दें कि लड़की की 27 फरवरी को शादी है। युवती करिश्मा का कहना है कि सड़क पर बहुत गड्ढे हैं और उसमें हमेशा कीचड़ भरा रहता है। डीएम चंद्रभूषण सिंह ने कहा कि करिश्मा नाम की युवती अपने गांव की खराब सड़क के संबंध में अपनी फरियाद लेकर आई थी।

डीएम चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि करिश्मा के प्रार्थना पत्र का संज्ञान लेते हुए तुरंत बीडीओ (ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर) और संबंधित अधिकारी को बुलाया गया। उन्हें निर्देश दिया गया है कि तत्काल गांव जाएं और सड़क बनाने का काम मनरेगा या किसी भी योजना के जरिए शुरू करा दिया जाए।

 

डीएम ने निर्देश दिए हैं कि युवती की शादी से पहले गांव की पूरी सड़क बना दी जाए। डीएम चंद्रभूषण सिंह ने कहा,

‘मिशन शक्ति अभियान चल रहा है। इसमें लड़की खुद अपने गांव के लिए सड़क की बात को लेकर आई है। ये प्रोग्राम महिलाओं की जागरूकता को दिखाता है। यह अभियान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रोग्राम का सीधा और सटीक उदाहरण है कि लड़कियां आज खुद जागरूक होकर इस दिशा में आगे बढ़ रही हैं।’

यह भी पढ़े: बिहार के किसानों के लिए आई अच्छी खबर, सहकारी लोन पर 90 प्रतिशत सूद हुआ माफ