किसान आंदोलन: रोते हुए बोले राकेश टिकैत, सरकार नहीं मानी तो आत्महत्या कर लूँगा

RAKESH TIKAIT CRY

26 जनवरी के दिन ट्रैक्टर परेड के समय हुई हिंसा के बाद पूरे देश में माहौल काफी ज्यादा गरमाया हुआ है। किसान आंदोलन में मौजूद प्रदर्शनकारियों काफी पीछे हटने का कोई इरादा नहीं है। वही दिल्ली की सीमा पर काफी ज्यादा हलचल मचा चुकी है और गाजीपुर बॉर्डर पर भी भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। गाजीपुर उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने भी धरना स्थल को खाली कराने के आदेश दे दिए हैं।

RAKESH TIKAIT

किसान नेता राकेश टिकैत ने दी आत्महत्या करने की धमकी

किसानों का आंदोलन अब धीरे-धीरे दम तोड़ता नजर आ रहा है। इसी दौरान किसान नेता राकेश टिकैत ने मीडिया के सामने रोते-रोते आत्महत्या करने की धमकी भी दी है। राकेश टिकैत ने कहा है कि,

“वे किसान भाइयो को इस तरह से बर्बाद नहीं होने देंगे। यदि सरकार तीनों कृषि कानून वापस नहीं लेती है, तो वह आत्महत्या कर लेंगे और उनकी मौत का जिम्मेदार प्रशासन ही होगा”।

RAKESH TIKAIT

नहीं सरेंडर करेंगे राकेश टिकैत

खबरों के मुताबिक कहा जा रहा था कि, राकेश टिकैत सरेंडर कर सकते हैं लेकिन मीडिया वालों से बातचीत के दौरान राकेश टिकैत ने गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों से कहा है कि,

“वे सरेंडर नहीं कर सकते हैं। धरना ऐसे ही जारी रहेगा। किसानों के प्रति साजिश की जा रही है। किसानों के साथ अत्याचार किया जा रहा है। लाल किले पर हुई हिंसा का जो भी जिम्मेदार है, उसकी जांच की जाए। हिंसा के दौरान लाल किले पर जो भी लोग मौजूद थे, सुप्रीम कोर्ट के द्वारा उनकी जांच हो। तिरंगे का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा”।

यह भी पढ़े: दिव्यांग राधेश्याम नहीं हैं किसी मसीहा से कम, हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

राकेश टिकैत का कहना है कि, डीप सिद्दू कौन है और उसका किस-किस के साथ लेना-देना है? इन सब की जांच की जाए।

RAKESH TIKAIT CRY

गाजियाबाद का पानी नहीं पी सकता- राकेश टिकैत

योगी सरकार द्वारा धरना स्थल खाली करवाने के आदेश दे दिए गए। राकेश टिकैत ने कहा कि,

“पुलिस के साथ बीजेपी विधायक मिले हुए हैं। अब यहां पर इनकी गुंडागर्दी नहीं चलेगी”।

गाजीपुर बॉर्डर पर तैनात प्रीत विहार के एसीपी वीरेंद्र पुंज ने बताया कि,

“किसानों को स्वयं ही गाजीपुर बॉर्डर खाली करना चाहिए। हमने पहले भी शांति से वार्तालाप की अपील की थी, और अब भी यही कर रहे हैं”।

वहीं राकेश टिकैत का कहना है कि,

“देश ने मुझे झंडा दिया है, तो मुझे पानी भी जरूर देगा। मैं गाजियाबाद का पानी बिल्कुल भी नहीं पी सकता। कोई भी मुझे यहां का पानी देगा, तो मैं नहीं पी सकता हूं। जब गांव के लोग अपने यहां से पानी लेकर आएंगे, तभी मैं पानी पीऊंगा”।

यह भी पढ़े: इन 2 दिन फ्री में मिलेगा गैस सिलेंडर, ऐसे उठाएं इस ऑफर का फायदा

मै प्रतिज्ञा श्रीवास्तव बतौर लेखक TREND BIHAR में कार्यरत हूँ, आप तक खबरें पहुँचाने से पहले मै उसे पूरी तरह से प्रमाणित करती हूँ, फिर सही जानकारी के साथ आप तक पहुंचाती हूँ. अपने सुझाव हमें आप कमेंट के जरिये बता सकते हैं.