लड़की ने तोड़ा दिल तो खोल लिया ‘दिल टूटा आशिक- चाय वाला’ रेस्टोरेंट, बोला- प्यार से बेहतर है चाय

वैसे तो भारत में आए दिन कुछ ना कुछ ऐसा होता ही रहता है, जो कभी किसी ने ना सोचा हो। हम लोगों ने आशिक तो बहुत देखे होंगे, लेकिन टूटे दिल का ऐसा आशिक , जिसने प्यार में धोखा मिलने के बाद अपने को एकदम मजबूत बना लिया और इतना ही नहीं उसने अपनी कमाई का अच्छा खासा जरिया भी शुरु कर लिया है। इस लड़के ने दिल टूटने के बाद एक कैफे खोला है और उस कैफे का नाम उसने दिल टूटा आशिक रखा है। आइए जानते हैं उसकी सफलता की दास्तां..

ब्रेकअप के बाद बनाया कैफे

DIL TUTA AASHIQ

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में रहने वाला दिव्यांशू बत्रा का लॉकडाउन के समय ब्रेकअप हो गया, जिसके बाद 6 महीने तक वो डिप्रेशन में रहा। काफी समय बीत जाने के बाद युवक ने फैसला किया कि वह अब अपनी जिंदगी में पीछे मुड़कर नहीं देखेगा।

यह भी पढ़े: प्रेरणा: ऑटो चलाकर पिता के कैंसर का इलाज करा रही है दिव्यांग बेटी

दिव्यांशू ने अपने ब्रेकअप के दुख को कम करने के लिए एक कैफे खोल लिया। इसमें खास बात ये है कि उसने अपने कैफे के लिए कोई ऐरा-गैरा नहीं बल्कि एकदम ए वन नाम चुना। जी हां, 21 साल के दिव्यांशू ने अपने कैफे का नाम ‘दिल टूटा आशिक चाय वाला’ रख दिया।

मां और भाई करते हैं मदद

दिल टूटा आशिक चाय वाला

दिव्यांशू ने बताया कि उसके इस बिजनेस में उसकी मां और भाई उसकी सहायता करते हैं। पहले दिव्यांशू के पापा को कैफे का ये नाम बिल्कुल पसंद नहीं था। हालांकि, उनके कुछ दोस्त जब कैफे पहुंचे और वहां के माहौल को देखा तो उन्होंने काफी प्रशंसा की। अपने दोस्तों से बेटे के कैफे की तारीफ सुनने के बाद दिव्यांशू के पापा को अपने बेटे पर भरोसा हो गया।

यह भी पढ़े: नितीश पर पुष्पम प्रिया का कटाक्ष ‘वैकेंसी निकालेंगे नहीं तो रोजगार कहां से देंगे’, JDU ने कसा तंज

दिव्यांशू ने बताया कि ‘दिल टूटा आशिक चाय वाला’ कैफे खोलने के पीछे उसका एक उद्देश्य था। दिव्यांशू चाहता था कि उसके कैफे में आने वाले लोग उसे अपनी कहानियां बताएं, जिससे सीख लेकर वह अपने गुजरे समय को भूल सके और जिंदगी में आगे बढ़ सके। दिव्यांशू ने बताया कि वह अपने इस मकसद में काफी कामयाब भी हो रहा है।