पत्रकारों की पिटाई मामलें में अखिलेश यादव पर हो सकती है कानूनी कार्यवाई, काउंटर एफआईआर दर्ज

Mooradabad-Akhilesh-yadav-press-conference-Electronic-Media-Beaten-By-Security

उत्तर प्रदेश (UTTAR PRADESH)  के मुरादाबाद (MORADABAD) में एक कार्यक्रम में सपा पार्टी (SAMAJWADI PARTY) के मुखिया और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री आखिलेश यादव (EX CM AKHILESH YADAV) के समर्थक और पत्रकारों के बीच हुई हाथापाई की वजह से सपा समर्थकों और अखिलेश यादव पर कई जगह एफआईआर दर्ज की है. पत्रकारों ने इस मामले में अखिलेश यादव को घेर रखा है. इस मामलें में एसपी ने काउंटर एफआईआर भी दर्ज कर रखी है. पुलिस अधिकारी ने कहा कि, “मामला कई धाराओं में दर्ज हुआ है। अखिलेश यादव को कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है.”

दर्ज F.I.R में लगाया गया ये आरोप

Mooradabad-Akhilesh-yadav-press-conference-Electronic-Media-Beaten-By-Security

आपकों बता दें कि इस मामलें में एक दिन पहले यानी की बीते दिन एक पत्रकार की शिकायत पर पाकबड़ा पुलिस स्टेशन में सपा प्रमुख अखिलेश यादव और उनकी पार्टी के 20 कार्यकर्ताओं पर IPC की कई धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज किया गया है.

अखिलेश यादव के खिलाफ दर्ज इस एफआईआर में कहा गया है कि

‘उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री यादव 11 मार्च को एक होटल में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बातचीत करते हुए कुछ व्यक्तिगत सवालों पर पत्रकारों से नाराज हो गए थे, जिस पर उन्होंने अपने सिक्योरटी गार्ड्स और समर्थकों को पत्रकारों पर हमला करने के लिए उकसाया. हाथापाई में कई पत्रकार चोटिल हुए.’

ALSO READ: अखिलेश यादव ने विधानसभा चुनाव से पहले खेला बड़ा दांव, भाजपा को मात देने के लिए किया ये काम

पुलिस कमिश्नर ने दिए जांच के आदेश

AKHILESH YADAV FIR
AKHILESH YADAV FIR FILE

इस घटना की जानकरी जैसे ही मुरादाबाद के पुलिस कमिश्नर को हुई वो मौके पर पहुंचे और उन्होंने इस घटना के जांच पड़ताल के आदेश दिए, साथ ही उन्होंने कहा कि

“11 मार्च की घटना के बाद पूर्व सीएम अखिलेश यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. यह एफआईआर आईपीसी की धारा 147 (दंगा), 342, और 323 के तहत दर्ज की गई है. अखिलेश यादव के अलावा नामजद रिपोर्ट में 20 सपा कार्यकर्ताओं पर भी मुकदमा दर्ज हुआ है.”

इतनी धाराओं में केस दर्ज होने के बाद अखिलेश यादव की तरफ से भी प्रत्यारोप में मामला दर्ज कराया गया है. अखिलेश यादव ने पत्रकारों के साथ हुई इस घटना के लिए प्रदेश की भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया है.

ALSO READ:प्रेरणा: लाखों की नौकरी छोड़ गांव में बच्चों को मुफ्त शिक्षा दे रहे हैं इंजीनियर अजय कुमार