/

चाय बेचने वाले की बेटी ने रचा इतिहास कड़ी मेहनत से बनी इंडियन एयरफोर्स में फ्लाइंग ऑफिसर

aanchal agarwal

नीमच में चाय बेचने वाले सुरेश गंगवाल का मानना है कि, यदि इंसान कड़ी मेहनत करता है तो उसकी मेहनत जरूर रंग लाती है। इसी मेहनत और लगन के चलते आज सुरेश गंगवाल की बेटी भारतीय वायुसेना में फ्लाइंग अफसर के पद पर तैनात है। दूसरी बेटी उच्च शिक्षा ग्रहण कर रही है। सिर्फ बेटियां ही नहीं बल्कि बेटा भी इंजीनियर बन कर आज तरक्की कर रहा है। सुरेश गंगवाल की मेहनत और लगन के चलते ही उनके बच्चों ने देश का नाम रोशन किया है , लेकिन वह आज भी चाय की दुकान ही चलाते हैं।

aanchal agarwal

नीमच शहर में चाय बेचने वाले सुरेश गंगवाल की बेटी आंचल गंगवाल ने भारतीय वायुसेना में कड़ी मेहनत और लगन से अफसर का पद हासिल किया है, जो कि उनके लिए बहुत ही गर्व की बात है। पिछले साल जून महीने में आंचल गंगवाल ने राष्ट्रपति पट्टिका का सम्मान भी प्राप्त किया था।

यह भी पढ़े: खुद आर्थिक तंगी झेल अपनी सैलरी से 50 बच्चों को पढ़ाता है ये पुलिस इंस्पेक्टर, दिलाना चाहते हैं सरकारी नौकरी

परेड में मार्च पास्ट करते हुए देख आंचल के परिवार वालों का सीना गर्व से चौड़ा होता है। बच्चों को तरक्की की राह देखकर सुरेश गंगवाल की आंखों में खुशी के आंसू आ जाते हैं।

aanchal agrawal

भारतीय एयरफोर्स में जाने के लिए छोड़ दी सरकारी नौकरी

आंचल गंगवाल को बचपन से ही पढ़ाई करने का बहुत शौक था। साल 2018 में आंचल एयर फोर्स के पद पर चुनी गई। इससे पहले वह मध्य प्रदेश पुलिस में सब इंस्पेक्टर के तौर पर कार्य करती थी। उन्होंने इस दौरान अपनी मेहनत जारी रखीं। सब इंस्पेक्टर की नौकरी छोड़ने के बाद आंचल को लेवल इस्पेक्टर की नौकरी भी मिली, लेकिन उन्होंने भारतीय एयरफोर्स में जाने की तैयारी शुरु की और अपनी नौकरी छोड़ दी।

aanchal agarwal

 

छठे प्रयास में मिली सफलता

आंचल ने इंडियन एयरफोर्स में जाने के लिए कड़ी मेहनत की लेकिन ये इतना आसान नहीं था। नौकरी पाने के लिए आंचल को 5 बार इंटरव्यू बोर्ड का सामना करना पड़ा। लगातार छठे प्रयास में आंचल को सफलता प्राप्त हुई और उन्हें 22 लोगों के साथ शामिल कर लिया गया। इन सभी लोगों को एयरफोर्स सेवा के लिए शामिल किया गया था। 12वीं कक्षा में पढ़ाई के दौरान केदारनाथ हादसे के बाद आंचल ने एयरफोर्स में ऑफिसर बनने की ठान ली थी। अब कड़ी मेहनत और लगन से आज वह अपना सपना पूरा कर सकी है।

यह भी पढ़े: गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होगी बिहार की बेटी, IAF झांकी में दिखेगा जलवा

मै प्रतिज्ञा श्रीवास्तव बतौर लेखक TREND BIHAR में कार्यरत हूँ, आप तक खबरें पहुँचाने से पहले मै उसे पूरी तरह से प्रमाणित करती हूँ, फिर सही जानकारी के साथ आप तक पहुंचाती हूँ. अपने सुझाव हमें आप कमेंट के जरिये बता सकते हैं.