/

छत्तीसगढ़ की महिला IPS का सराहनीय योगदान, 100 छात्रों को दे रहीं फ्री में UPSC कोचिंग

ips ankita sharma

छत्तीसगढ़ की महिला आईपीएस अंकिता शर्मा ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर सिर्फ अपने परिवार का ही नहीं बल्कि पूरे देश का नाम रोशन किया है। दुर्ग की रहने वाली अंकिता ने उच्च शिक्षा ग्रहण कर छत्तीसगढ़ की पहली महिला आईपीएस होने का खिताब अपने नाम किया, जो कि उनकी मेहनत और लगन का नतीजा है। 2018 में 204 रैंक हासिल करने वाली अंकिता ने तीसरे प्रयास में सफलता हासिल की थी। जो आज इतने बड़े पद की जिम्मेदारी संभालने के बावजूद समाज की महिलाओं को शिक्षा देने का भी कार्य कर रही हैं।

ips ankita sharma

छात्रों को मुफ्त में देती हैं टिप्स

अंकिता शर्मा ने आईपीएस और आईएएस की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों को टिप देने का काम करती हैं, जिससे कि, यह सभी अभ्यर्थी आसानी से इंटरव्यू में पूछे जाने वाले प्रश्नों का जवाब आसानी से दे सके। आईएएस अंकिता शर्मा हर रविवार को 100 छात्रों को अपने ऑफिस पर बुलाकर उन्हें आवश्यक टिप देती हैं। अंकिता ने फैसला लिया है कि, वह इन अभ्यर्थियों को अपनी तरफ से मुफ्त में गाइड करेंगी, जिससे वह आईपीएस और आईएएस अधिकारी बनने में सफलता हासिल करें।

यह भी पढ़े: इल्मा अफ़रोज़ का संघर्ष: न्यूयॉर्क की नौकरी छोड़ देश सेवा के लिए किया UPSC क्लियर, कभी मोमबत्ती की रौशनी में करनी पड़ती थी पढ़ाई

अंकिता सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं, जहां पर भी उनके काफी फॉलोअर हो चुके हैं। अंकिता का यह सराहनीय कार्य छात्रों के लिए बहुत ही लाभदायक साबित हो रहा है।

 

ips ankita sharma

इस तरह बनी आईपीएस अधिकारी

आईपीएस अंकिता शर्मा ने अपने प्राथमिक शिक्षा छत्तीसगढ़ के दुर्ग से प्राप्त की है। इसके बाद 6 महीने के लिए वह दिल्ली रहने के लिए चली गई। दिल्ली से वापस आने के बाद वह आईपीएस ऑफिसर बनने की तैयारी में लग गई। उन्होंने निर्णय लिया कि, अब वह अपनी मेहनत और लगन के दम पर आईपीएस ऑफिसर बन कर रहेंगी। लगातार तीसरे प्रयास में उन्होंने अपनी मेहनत के चलते यूपीएससी परीक्षा क्लियर कर ली और आईपीएस अधिकारी बन गई। अब देश सेवा के साथ-साथ अंकिता समाज सेवा भी कर रही हैं।

ips ankita sharma

अंकिता शर्मा अब छत्तीसगढ़ के उन बच्चों की सहायता करती हैं, जो यूपीएससी की तैयारी में लगे हुए हैं। अंकिता ज्यादातर आदिवासी क्षेत्रों के बच्चों को शिक्षा देने की मुहिम चला रही हैं। वह अपनी सैलरी से इन बच्चों को फ्री में शिक्षा देती है, जिससे कि वह समाज सेवा भी कर सकें।

अंकिता का कहना है कि, छत्तीसगढ़ में यूपीएससी की कोचिंग का काफी अभाव है, जिस वजह से वह आगे बढ़कर बच्चों की सहायता करना चाहती हैं। अंकिता शर्मा के इस सराहनीय कार्य की लोग काफी तारीफ करते हैं, जो कि आज सभी के लिए प्रेरणा बनकर सामने आई है।

यह भी पढ़े: लॉकडाउन के कारण चली गई थी पति की नौकरी, पत्नी ने कार को ही बनाया बिरयानी का स्टॉल